Sunday , September 24 2017

किडनी रैकेट का मास्टरमाइंड गिरफ्तार, तलाशी में मिले कई महत्वपूर्ण दस्तावेज

किडनी ट्रांसप्लांट मामलेधनराज गर्ग
देहरादून। किडनी ट्रांसप्लांट मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने इस धंधे के मास्टरमाइंड डॉक्टर अमित को धर दबोचा है। अमित के साथ ही फरार चल रहे उसके भार्इ जीवन को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने ने इन दोनों को हरियाणा के पंचकुला से गिरफ्तार किया है।
किडनी गिरोह के सरगना अमित की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने कई ठिकानों पर दबिश दे रही थी और आखिरकार पुलिस अमित को गिरफ्तार करने में कामयाब हो गर्इ है। इससे पहले किडनी ट्रांसप्लांट मामले के मुख्य आरोपी अमित और राजीव चौधरी की गठजोड़ के दस्तावेजी सबूत भी दोनों के ठिकानों की तलाशी में मिल थे।

अभी-अभी : मोदी-शाह को करारा झटका, भाजपा के इस खिलाड़ी ने बर्बाद कर दी सारी मेहनत

नेचर विला स्थित दोनों के ठिकानों पर चार घंटे चली तलाशी के दौरान उत्तरांचल डेंटल कॉलेज और गंगोत्री चैरिटेबिल अस्पताल के बीच हुए लीज एग्रीमेंट के दस्तावेज, तीन बैंक अकाउंट समेत अमित पर दर्ज आधा दर्जन से अधिक मुकदमों से संबंधित कागजात मिले हैं। तलाशी के दौरान राजीव की पत्नी अनुपमा भी घर पर मौजूद थी। नेचर विला परिसर स्थित दोनों के फ्लैट की तलाशी के दौरान घरों से मिले कागजातों से पता चला कि राजीव ही गंगोत्री चैरिटेबल अस्पताल का संचालक था। उसकी बीवी अनुपमा उसकी गैरमौजूदगी में अस्पताल का पूरा कामकाज देखती थी। अस्पताल को कैसे चलाना है, स्टॉफ कितने भर्ती करने हैं जैसे काम राजीव के ही जिम्मे थे।

गाजियाबाद में गिरफ्तार हुआ बसपा नेता की हत्या में शामिल ‘बाबा’
एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि अमित के घर बीएमडब्ल्यू कार का कैटलॉग मिला है, जिससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि वह काली कमाई से इस कार को खरीदने की तैयारी था। अमित के घर से उस पर पूर्व में मुंबई, दिल्ली, गुरुग्राम व अन्य शहरों में दर्ज हुए मुकदमों की एफआइआर कॉपी भी मिली है। जिससे उसके बारे में कई जानकारियां मिली हैं साथ ही एसएसपी ने बताया कि मास्टरमाइंड अमित समेत एक महिला सहित ४ लोगो को गिरफ्तार किया गया है।

=>
LIVE TV