करतार साहिब कॉरिडोर में श्रद्धालुओं के पहुँचने से पहले बदलने लगे पाकिस्तान के बयान

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की पुलिस ने शनिवार से हर रोज करतारपुर आने वाले भारतीय श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए बृहस्पतिवार को 100 सदस्यों वाला विशेष ‘पर्यटन पुलिस बल’ तैनात किया है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान शनिवार को करतारपुर गलियारे का उद्घाटन करेंगे और इसके बाद भारतीय श्रद्धालु प्रतिदिन के आधार पर यहां आएंगे. गलियारे की सुरक्षा का जिम्मा पाकिस्तानी रेजरों पर है और पंजाब पुलिस उनके साथ समन्वय करेगी.

kartarpur-sahib-corridor

पंजाब पुलिस के प्रवक्ता नियाब हैदर नकवी ने बृहस्पतिवार को भाषा से कहा,‘‘सिख श्रद्धालुओं की देखभाल और उनकी सुरक्षा के लिए 100 जवानों के पर्यटन पुलिस बल के एक दस्ते को तैनात किया गया है.’’ उन्होंने कहा कि और पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है तथा वे भी इस पहले दस्ते में शामिल होंगे. इसी प्रकार से पाकिस्तानी रेंजरों ने सुरक्षा कारणों से गलियारे में तैनात किए गए अपने कर्मियों की संख्या को बढ़ा दिया है.

पढ़िए क्या बोले पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता-

एक अधिकारी ने बताया, ‘‘पूरी तरह सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए रेंजरों ने शनिवार को इसके उद्घाटन से पहले और कर्मियों को तैनात किया है.’’ उन्होंने बताया कि आने वाले सिख श्रद्धालु केवल गुरुद्वारा दरबार साहिब तक ही जाएंगे और रेंजर एवं पुलिस गलियारे तथा गुरुद्वारे के भीतर और आस पास के क्षेत्र में पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे. पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर भी कह चुके हैं कि दरबार साहिब आने वाले किसी भी भारतीय श्रद्धालु को निर्धारित क्षेत्र के अलावा ‘एक इंच’ भी बढ़ने नहीं दिया जाएगा.

इस बीच पाकिस्तान सरकार के विभिन्न विभागों ने शनिवार दोपहर गलियारे के शुरू होने से पहले व्यवस्थाओं को अंतिम रूप देने के लिए यहां बृहस्पतिवार को बैठकें की. देश में अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थानों की देखभाल करने वाले शरणार्थी न्यास संपत्ति बोर्ड के प्रवक्ता आमिर हाशमी ने भाषा से कहा, ‘‘गलियारे के शुरू होने के अवसर पर आने वाले सिख श्रद्धालुओं तथा अन्य अतिथियों के स्वागत की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. हमने सुनिश्चित किया है कि आने वाले श्रद्धालुओं को कोई दिक्कत नहीं हो और वे इसे यादगार यात्रा के तौर पर याद रखें.’’

पंचकोसी परिक्रमा खत्म होने से पहले अलर्ट पर सुरक्षा व्यवस्था, पढ़िए क्या है कारण

उन्होंने कहा, ‘‘गुरुवार को वीजा पर करतारपुर साहिब में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे जहां उन्होंने अरदास की.’’ इनमें दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंध समिति के प्रधान सरदार सरोजीत सिंह भी शामिल थे. सिंह ने कहा, ‘‘ बाबा गुरु नानक की 550वीं जयंती के अवसर पर करतारपुर साहिब तक पहुंचना सिखों के लिए सबसे सुंदर चीज है.’’ उन्होंने कहा कि यहां आने वाले सिखों की प्रसन्नता को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता. पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने गलियारे से आने वाले भारतीय श्रद्धालुओं से 20 डॉलर का सेवा शुल्क नहीं लेने और पासपोर्ट की शर्त के संबंध में प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर सरकार की स्थिति स्पष्ट की.

विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा, ‘‘ बाबा गुरु नानक की 550वीं जयंती पर करतारपुर आने वाले सिख श्रद्धालुओं के लिए पाकिस्तान सरकार ने तीन अहर्ताएं समाप्त कर दी हैं.’’ उन्होंने कहा,‘‘अब भारतीय सिख श्रद्धालुओं को एक साल तक पासपोर्स नहीं लाना होगा, आगमन से 10 दिन पहले पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होगी, नौ और 12 नवंबर को प्रति श्रद्धालु प्रति दिन 20 डॉलर का सेवा शुल्क भी नहीं लिया जाएगा।’’ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पाकिस्तान में गुरुद्वारे जाने वाले जत्थे में शामिल होंगे.

=>
LIVE TV