उत्तर भारत में हुई बारिश का पानी पहुंचा संगम, गंगा यमुना का जलस्तर बढ़ा

प्रयागराज. बीते कुछ दिनों से शहर में गंगा और यमुना नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। इसकी वजह पहाड़ों में नदियों के उद्गम स्थलों के आसपास तेज बारिश होना है। साथ ही दोनों नदियों की सहायक नदियों का पानी भी इसमें आ रहा है। आने वाले दिनों में लगातार जलस्तर बढ़ने से शहर के कई इलाकों में बाढ़ कहर बरपा सकती है। ऐसे में निचले इलाकों में रहने वालों में डर पैदा हो रहा है। संगम आ रहे श्रद्धालु भी अचानक बढ़े पानी को देखकर काफ़ी खुश है।

श्रद्धालु संगम में डुबकी लगा रहे हैं और कोरोना वायरस से जल्द निजात मिलने की प्रार्थना कर रहे है। कुछ दिन पहले जो संगम क्षेत्र कम पानी की वजह से सूखा पड़ा था अब वहां पर्याप्त पानी आ गया है। दोनों नदियों के किनारे बैठने वाले तीर्थ पुरोहित बढ़ते पानी की वजह से हटने को मजबूर हुए हैं। बता दें, कि प्रयागराज तीनों तरफ से नदियों से घिरा है। शहर के एक तरफ यमुना बहती हैं और दो तरफ गंगा की जलधारा है। इससे बाढ़ के वक्त तीनों तरफ से शहर घिर जाता है। मध्य प्रदेश की तमाम नदियां यमुना में गिरती हैं। इसी वजह से यमुना भी उफना रही है। इन नदियों में केन, बेतवा और चंबल सबसे ज्यादा बहाव वाली नदियां हैं।  यमुना का बढ़ा हुआ पानी संगम में आकर गंगा से मिलता है, इसी वजह से गंगा में भी पानी लगातार बढ़ रहा है।

=>
LIVE TV