इस 550 साल पुरानी ममी में अभी भी बाकी है जान, जानकर हर कोई है हैरान

भारत में एक जगह ऐसी है जहां एक संत की ममी रखी हुई है और इस ममी के नाखून और बाल लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ये प्राकृतिक ममी है यानी इस ममी पर किसी प्रकार के केमिकल्स का उपयोग नहीं किया गया है।

लगभग 550 साल पुरानी ये ममी हिमाचल के लाहुल स्पिती के गीयू गांव में स्थित है। ये ममी बैठी हुई अवस्था में है जबकि दुनिया में पायी गयी बाकी ममीज़ लेटी हुई अवस्था में मिली हैं। गीयू गांव 6 से 8 महीने बर्फ की वजह से बाकी दुनिया से कटा रहता है। ये तिब्बत से मात्र 2 किलोमीटर दूर है।

अजब गजब

गांव वालों के अनुसार ये ममी पहले एक स्तूप में गांव में ही रखी हुई थी पर 1974 में भूकम्प में कहीं पर दब गयी। सन 1995 में आई टी बी पी के जवानो को सड़क बनाते समय ये मिली। कहा जाता है कि उस समय कुदाल सिर में लगने के बाद ममी के सिर से खून भी निकला जिसका निशान आज भी मौजूद है।

2009 तक ये ममी आई टी बी पी के कैम्पस में ही रखी रही। बाद में गांव वालों ने इस ममी को गांव में लाकर स्थापित कर दिया। ममी को रखने के लिए शीशे का एक कैबिन बनाया गया जिसमें इसे रखा गया। इस ममी की देखभाल गांव में रहने वाले परिवार बारी-बारी से करते हैं। यहां आने वाले पयज़्टकों को वे ममी के बारे में जाकारी देते है।

इस शख्स को कोबरा से हो गया है जबरदस्त प्यार, दोनों जाते हैं रोमांटिक डेट पर

सालाना यहां पर देश विदेश के हजारों पयज़्टक इस मृत देह को देखने आते हैं। ममी निकलने के बाद इसकी जांच की गयी। जिसमें वैज्ञानिकों ने बताया कि इतने साल तक बिना किसी लेप के और ज़मीन में दबी रहने के बावजूद ये ममी कैसे इस अवस्था में है ये आश्चर्य का विषय है।

=>
LIVE TV