आयकर विभाग ने दिल्ली में 21000 करोड़ के हवाला कारोबार का खुलासा, फर्जी बिल से चल रहा था गोरखधंधा…

सोमवार को आयकार विभाग ने तीन अलग अलग मामलों में हवाला कारोबार का पर्दाफाश किया है। यह विभााग के अनुयार इन तीनों मामलों में करीब 21 हजार करोड़ रुपए का मामला सामने आया है। जहां एक और तीन 12 कंपनियों के 18 हजार करोड़ रुपए के फर्जी बिल बनाकर गोरखधंधा किया जा रहा था।

वहीं दूसरी और बड़ी कंपनियों के पुराने शेयर्स को नया बताकर बेचा जा रहा है। वहीं आखिरी मामले में एक विदेशी खाते का खुलाया हुआ है। जिसमें फर्जी बिल बनाकर जीएसटी का दावा करते थे।

21000 करोड़ के हवाला कारोबार
कालेधन और हवाला लेन-देन पर बड़ी कार्रवाई करते हुए आयकर विभाग ने देश की राजधानी दिल्ली में 18,000 करोड़ रुपये के जाली बिलों का भंडाफोड़ किया। यह जानकारी सोमवार को विभाग के अधिकारियों ने दी।

आयकर विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विभाग द्वारा पिछले कुछ सप्ताह से लगातार तलाशी व सर्वेक्षण अभियान चलाया जा रहा था, जिसमें जाली प्रविष्टियों व हवाला लेन-देन के कारोबार में संलिप्त तीन ग्रुप ऑपरेटरों का भंडाफोड़ किया गया।

उन्होंने बताया कि मध्य दिल्ली के नया बाजार में एक ग्रुप पर किए गए सर्वेक्षण में 18,000 करोड़ रुपये से अधिक के जाली बिल पाए गए। इस ग्रुप ने फर्जी बिल प्रदान करने के लिए 12 नकली कंपनियां बनाई थीं। विभाग ने आरोपियों की पहचान का खुलासा नहीं किया।
9 मार्च को मुकेश अंबानी के बड़े बेटे आकाश श्लोका मेहता संग लेंगे फेरे, 3 दिनों तक होगा समारोह

विभाग को इसी तरह एक अन्य समूह का भी पता चला जिनके पास अघोषित विदेशी बैंक खाता पाया गया। यह समूह निर्यात का कीमत से अधिक बिल बनाकर जीएसटी के तहत फर्जी दावा भी करते थे।

उन्होंने कहा, ‘शुरुआती अनुमान के अनुसार ये फर्जी निर्यात 1,500 करोड़ रुपए से अधिक के हैं।’

छापेमारी करने वाले दल को करीब 100 करोड़ रुपए के हस्ताक्षर किए गए तथा बगैर हस्ताक्षर के दस्तावेज, समझौते, अनुबंध, नकदी कर्ज और उसपर अर्जित ब्याज, वित्तीय विवादों का नकद के बदले निस्तारण तथा इनके एवज में पैसे लेने की रसीदें आदि मिलीं हैं।

अधिकारी ने कहा, ‘तीसरे मामले की जांच में लोगों को विदेशी यात्रा कराने तथा विदेशी मुद्रा उपलब्ध कराने के भी सबूत मिले हैं।

=>
LIVE TV