जन्नत से कम नहीं है अलची मॉनेस्ट्री के पर्यटन स्थल

कभी जन्नत के नज़ारे लेने का मन करे तो लद्दाख से बेहतर और क्या हो सकता है? लद्दाख की वादियों में कुछ पल सुकून के गुज़ारने का मन तो सभी का होता है। आपको बता दें कि लद्दाख के निचले हिस्से में, अलची नाम का एक खूबसूरत गाँव है, जिसमें सदियों पुराने स्मारक हैं। इन स्मारकों में से, अलची मॉनेस्ट्री सबसे पुरानी है और ये एक अच्छी जगह है अपने परिवार के साथ छुट्टियां बिताने के लिए। यहां देखने कि लिए बहुत कुछ है जो पर्यटकों के दिल में हमेशा के लिए एक अच्छी याद के रूप में घर सर जाएगा।

अलची मॉनेस्ट्री

दुखांग

ये वो जगह है जहां से मंजुश्री मंदिर में प्रवेश किया जाता है और भिक्षु, पूजा और अनुष्ठान करते हैं। मंदिर की क्लासिक वास्तुकला मूल लकड़ी के चौखट से बनी है और इसे अभी भी बरकरार रखा गया है। बाद में 12 वीं और 13 वीं शताब्दी में, कुछ जोड़ भी किया गया। दुखांग का लैंडमार्क व्हील ऑफ लाइफ और महाकाल है।

सुमत्सेग

अलची के सबसे खूबसूरत पर्यटन स्थलों में से एक है सुमत्सेग मॉनेस्ट्री। सुमत्सेग सिर्फ प्राकृतिक मिट्टी और पत्थर से बनी है। और ये कितनी मज़बूत है, इसका अंदाज़ा आप इसी से लगा सकते हैं कि ये आज भी अस्तित्व में है। सदियों पुरानी इस मॉनेस्ट्री में हस्त कलाएं और पेंटिंग भी शामिल हैं, जो कश्मीरी कलाकारों द्वारा बनाई गई हैं। मॉनेस्ट्री का ये भाग 13वी शताब्दी में बना था। इसके अलावा जो चीज़ पर्यटकों को सबसे ज्यादा प्रभावित करती है वो है कि यहां इसकी सुंदरता को और बढ़ाते हुए बुद्ध के जीवन को दर्शाने वाले टेक्सटाइल प्रिंट।

खूबसूरत दिखने के लिए इस मॉडल ने किया ऐसा काम, जो नहीं है सबके बस की बात…

मंजुश्री मंदिर

सुमत्सेग और सुमाडा विधानसभा हॉल की तुलना में, मंजुश्री मंदिर जिसे ​​जंपे लखांग के नाम से भी जाना जाता है, लगभग 1225 ए.डी. में अस्तिव में आया। सुमत्से की तरह, यहां भी एक पेंटिंग हैं लेकिन वो प्राकृतिक नहीं हैं। इसके बाईं ओर का मंदिर – इसके पिछले भाग में लोबसाव या लोत्सवा मंदिर है। इस शानदार मंदिर के दर्शन करना श्रृद्धालुओं के साथ-साथ पर्यटकों के लिए भी एक बेहतीरन अनुभव होगा।

कैसे पहुंचे अलची?

अलची मॉनेस्ट्री, अलची गांव का ही एक हिस्सा है। अलची लेह से 70 किमी दूर जम्मु-कश्मीर का एक जिला है। यहां तक पंहुचने के लिए आप लेह से टैक्सी या कोई भी पब्लिक यातायात का सहारे अलची तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

जिंदगी में कभी भी दूसरों की इन चीजों को न करें इस्तेमाल, होगी धन की हानि

किस मौसम में जाएं अलची?

अलची को मौसम संबंधित बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सर्दियों में यहां जमा देने वाली ठंड पड़ती है। तो वहीं गर्मियों में यहां खुशनुमा मौसम रहता है। यहां पूरे साल बारिश भी होती रहती है और गर्मियों में रात में तापमान गिर जाता है। अलची जाने का सबसे सही समय जून से सितंबर के बीच का है।

=>
LIVE TV