अब होम क्वारंटीन लोगों के घर के आगे सूचना बोर्ड लगेगा, क्वारंटीन में है 17 लोग

कोरोना वायरस का खतरा खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. रोज़-रोज़ इसके नए मामले सामने आ रहे हैं. कोई संक्रमित है तो किसी हो चुकी है मौत. हाल ही में उत्तराखंड के दुगड्डा लौटे स्पेन से युवक को  कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. उसके और उसके परिजनों के  संपर्क में आए लोगों की सूची प्रशासन ने तैयार कर ली है. इसके तहत दुगड्डा और कोटद्वार के तीन अन्य लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया गया है.

quarantine
अब कोटद्वार में क्वारंटीन लोगों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है, जिसमें छह लोग क्वारंटीन सेंटर जबकि 11 लोग होम क्वारंटीन किए गए हैं। इन सभी लोगों की नियमित निगरानी के लिए प्रशासन की ओर से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम गठित की गई है। साथ ही होम क्वारंटीन लोगों के घर के आगे सूचना बोर्ड भी लगाया जाएगा।
लॉकडाउन में गुजरात में फंसे बेटे की मां को पुलिस ने ट्वीट के जरिए दिया राशन

स्पेन से गत 17 मार्च को दुगड्डा अपने घर लौटे 26 वर्षीय युवक को पीएचसी दुगड्डा में प्रारंभिक जांच करने के बाद गत 19 मार्च को बेस अस्पताल कोटद्वार में भर्ती कराया गया था। 25 मार्च को हल्द्वानी से आई रिपोर्ट में युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करते हुए उसके माता, पिता, बहन, काम वाली बाई, चाचा, ताऊ को कण्वाश्रम स्थित क्वारंटीन सेंटर भेज दिया गया।

युवक के उपचार करने वाले तीन डॉक्टर, चार नर्स और दो सफाई कर्मियों को भी स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारंटीन कर दिया था। इसके बाद प्रशासन ने युवक के संपर्क में आए दुगड्डा और कोटद्वार के 2 अन्य लोगों को चिह्नित करते हुए उन्हें भी होम क्वारंटीन करने के निर्देश दिए। बेस अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. वीसी काला ने बताया कि क्वारंटीन लोगों की निगरानी के लिए बनी टीम को अलर्ट कर दिया गया है।

चमोली में विदेशों से पहुंचे 29 लोग होम क्वारंटीन

चमोली जिले में विदेश से पहुंचे 56 लोगों में से 29 को होम क्वारंटीन किया गया है, जबकि 27 लोगों के होम क्वारंटीन की अवधि 28 दिन होने के कारण उन्हें निगरानी से बाहर कर दिया गया है। जिले में देश के विभिन्न जिलों से लगभग 1800 लोग पहुंचे। सीएमओ डा. केके सिंह ने बताया कि आठ लोगों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से कर्णप्रयाग और कालेश्वर में क्वारंटीन किया गया है। जिले में स्थिति पूरी तरह काबू में है।

12 किमी पैदल चलकर भीमतला पहुंचे मजदूर

ऑलवेदर रोड परियोजना कार्य में लगे मजदूरों को खाने की दिक्कत हो गई है। पीपलकोटी के समीप टंगणी में दो दिन से भूखे-प्यासे मजदूर शनिवार को पैदल ही लगभग 12 किलोमीटर चलकर भीमतला पहुंचे। मजदूरों ने बताया कि लॉकडाउन के कारण वाहनों की आवाजाही न होने से ठेकेदार उन तक नहीं पहुंच पाया, जिसके बाद वे स्वयं पैदल चलकर भीमतला पहुंचे।

भीमतला में ठेकेदार ने मजदूरों के खाने की व्यवस्था कराई। ये सभी आठ मजदूर सहारनपुर के हैं। मजदूरों का कहना है कि यदि खाने-पीने की व्यवस्था न हुई तो वे पैदल ही घरों के लिए रवाना होंगे। इधर, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंद किशोर जोशी का कहना है कि मजदूरों के लिए खाने के पैकेट वितरित किए जा रहे हैं। ऑलवेदर रोड परियोजना कार्य में लगे मजदूर ठेकेदार के हैं। यदि ऐसी स्थिति है तो संबंधित ठेकेदारों से बात की जाएगी। ब्यूरो

घर जाने को पैदल दूरी नाप रहे मजदूर

पर्वतीय क्षेत्र से भी मजदूर लगातार घरों को पलायन कर रहे हैं। रुद्रप्रयाग से पैदल दूरी नापकर शनिवार को हिमाचल प्रदेश के 10 मजदूर भूखे-प्यासे घनसाली पहुंचे। घनसाली पहुंचने पर तहसील प्रशासन ने मजदूरों को भोजन करवाया। बालगंगा तहसील के तहसीलदार राजेंद्र सिंह रावत ने बताया कि पैदल चलने वाले मजदूरों को अलग-अलग स्थानों पर खाने के पैकेट बांटे गए। साथ ही उन्हें घर भेजने लिए वाहनों की व्यवस्था भी कराई जा रही है। संवाद

आटा, चावल, सब्जी की होने लगी किल्लत

लॉकडाउन के चलते देवाल बाजार में आटा, चावल, सब्जी आदि जरूरी वस्तुओं की कमी होने से लोग परेशान होने लगे हैं। स्थानीय छोटे बाजारों में हल्द्वानी से राशन की सप्लाई न आने से राशन की दुकानें बंद पड़ी हैं। ब्लाक के दस गांव में सस्ते गल्ले का राशन नहीं पहुंचा है। रसोई गैस सिलिंडर की मुंदोली, मेलखेत क्षेत्र में सप्लाई अभी तक नहीं हुई है।

शनिवार को राशन की दुकानें एक बजे तक खुली रहीं, लेकिन दुकानों में जरूरी वस्तुओं की कमी रही। देवाल बाजार के थोक विक्रेता हरीश रावत, कुंदन सिंह, प्रकाश सिंह ने बताया कि उनके पास जितनी खाद्य सामग्री थी, बंट चुकी है। हल्द्वानी से सब्जी और राशन की डिमांड भेजी है, लेकिन मंडी में मजदूर ने मिलने से राशन अभी तक नहीं पहुंचा है। पूर्ति अधिकारी मुकेश नेगी ने बताया कि ब्लाक के दस गांव में मार्च माह का राशन नहीं पहुंचा है। पूर्व प्रमुख डीडी कुनियाल ने एसडीएम से रसोई गैस की आपूर्ति की मांग की।

10 सैंपल आए निगेटिव, पांच नए भेजे

जनपद पौड़ी में कोरोना संदिग्ध मरीजों के 10 सैंपल निगेटिव आए हैं, जबकि कोरोना संदिग्धों के पांच नए सैंपल भी भेजे गए हैं। एसीएमओ डा. रमेश कुंवर ने बताया कि जिले से कोरोना संदिग्ध मरीजों के 10 सैंपल भेजे गए थे। सभी निगेटिव आए हैं।

इनमें सात सैंपल जिला चिकित्सालय पौड़ी, एक बेस चिकित्सालय श्रीनगर व दो बेस चिकित्सालय कोटद्वार के शामिल हैं। शनिवार को जिला चिकित्सालय पौड़ी से पांच नए सैंपल भेजे गए हैं। जिले में अभी तक कुल 12 सैंपल लिए गए, इनमें 1 पॉजीटिव व 11 निगेटिव आए हैं। डा. कुंवर ने बताया कि अभी तक जिले में 27 लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है। 21 को क्वारंटीन किया जा रहा है। घरों में 41 लोग क्वारंटीन किए जा रहे हैं।

=>
LIVE TV