अपनाये ये शुक्र नीतिया, बदलेगा कल

shankracharya_570e9d46eec0eएजेंसी/गुरु शुक्राचार्य को कौन नहीं जानता वे भगवान ब्रह्मा के वशंज थे वास्तव में उनहोंने हमारे जीवन से समबन्धित कुछ ऐसी बाते कही है। जिनका हमें पालन करना ही चाहिए तो आइये जानते है। क्या कहा हमें शुक्राचार्य ने जिससे हमारी जिंदगी बदल सकती है। 

1. ना सभी पर विश्वास करे,ना सभी पर संका -शुक्राचार्य की यह बहुत ही महत्वपूर्ण निति है क्योकि मनुष्य की ये दोनों ही आदतें सही नहीं होती। हर किसी को विश्वास और शक के बीच का संतुलन बना कर चलना चाहिए। मनुष्य को परिस्थिति के अनुसार किसी पर भी शक या विश्वास करना चाहिए।

2.पापी का त्याग – पापी चाहे हमारा कितना भी करीबी क्यों ना हो हमें उसका त्याग कर देना चाहिए कई बार हमारे प्रियजन नास्तिक या पाप-कर्म करने वाले होते हैं। हमे सही-गलत का ज्ञान होने पर भी अपने मोह या लगाव की वजह से हम उस व्यक्ति का त्याग नहीं करते। धर्म- ग्रंथों में इस बात को बिल्कुल ही गलत कहा गया है। 

3. धर्म का सम्मान – हमें हमेशा अपने धर्म का सम्मान करना चाहिये जो मनुष्य अपनी दिनचर्या का थोड़ा सा समय देव-पूजा और धर्म-दान के कामों को देता है, उसे जीवन में सभी कामों में सफलता मिलती है। धर्म का सम्मान करने वाले मनुष्य को समाज और परिवार में बहुत सम्मान मिलता है। इसलिए भूलकर भी धर्म का अपमान न करें, न ही ऐसा पाप-कर्म करने वाले मनुष्यों की संगति करें। 

4. अन्न का सम्मान – हमारे धर्म में अन्न को देवता के सामान माना गया है इसका हमेशा सम्मान करना चाहिये। अन्न हर मनुष्य के जीवन का आधार होता है, इसलिए धर्म ग्रंथों में अन्न का अपमान न करने की बात कही गई है। कई लोग अपना मनपसंद खाना न बनने पर अन्न का अपमान कर देते हैं, यह बहुत ही गलत माना जाता है। जिसके दुष्परिणाम स्वरूप कई तरह के दुखों का सामना भी करना पड़ सकता है। इसलिए ध्यान रहे कि किसी भी परिस्थिति में अन्न का अपमान न करें। 

5. किसी को भी सोच समझ मित्र बनाये – किसी को भी बिना सोचे समझे मित्र ना बनाये यह हमारी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती साबित हो सकती है मित्र के गुण-अवगुण, उसकी आदतें सभी हम पर भी बराबर प्रभाव डालती हैं। इसलिए, बुरे विचारों वाले या गलत आदतों वाले लोगों से मित्रता करने से बचें। 

=>
LIVE TV