क्या है ऑर्टरी ब्लॉकेज, जानें इसके लक्षण और बचाव

आजकल के खान-पान और परिवेश के कारण भारत क्या विदेश में भी दिल के मरीजों की गिनती बढ़ती ही जा रही है। हृदय की मांसपेशिया जीवंत होती है और उन्हें जिन्दा रहने के लिए आहार और ऑक्सीजन की जरूरत होती है। जब एक या ज्यादा आर्टरी रुक जाती है तो हृदय की कुछ मांसपेशियों को आहार और ऑक्सीजन नही मिल पाती। इस स्थिति को हार्ट अटैक यानी दिल का दौरा कहा जाता है। समय की कमी के कारण आजकल लोग बाहर के खाने पर निर्भर हो गए हैं।  युवा ज्यादातर एल्कोहल का इस्तेमाल करते हैं जिस कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ रहा है।

ऑर्टरी ब्लॉकेज

क्या है समस्या

अगर कोई व्यक्ति लंबे समय तक अपने खानपान और दिनचर्या के मामले में लापरवाही बरते तो इससे उसके हृदय की रक्वाहिका नलियों में नुकसानदेह कोलेस्ट्रॉल एलडीएल (लीपोप्रोटीन डिपॉजि़ट कोलेस्ट्रॉल) का जमाव हो जाता है। सामान्य अवस्था में हर धड़कन के साथ दिल खून की पंपिंग करके शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन से युक्त रक्त का प्रवाह सही ढंग से करता है लेकिन ऑर्टरी में ब्लाकेज होने की स्थिति में हार्ट की कार्यक्षमता कम हो जाती है और इससे रक्त प्रवाह में बाधा पैदा होती है खासतौर पर जब मस्तिष्क तक ऑक्सीजन युक्त रक्त का प्रवाह नहीं पहुंचता तो इससे हार्ट अटैक की आशंका बढ़ जाती है।

यह भी पढ़ें- महिलाओं को ही नहीं 30 के बाद पुरुषों को भी प्रोटीन की आवश्यकता

ऑर्टरी ब्लॉकेज के लक्षण

•  सीने के बाएं हिस्से में हलका या तेज़ दर्द होना, कभी-कभी यह दर्द कंधों, बांहों या जबड़े तक भी पहुंच जाता है।

•  कभी-कभी नॉजि़या जैसे लक्षण भी नज़र आते हैं।

•  ब्लॉकेज की वजह से शरीर के सभी हिस्सों तक ऑक्सीजनयुक्त रक्त नहीं पहुंच पाता। इससे सांस लेने में तकलीफ, घुटन, बेचैनी, अनावश्यक थकान और कमज़ोरी महसूस होती है।

•  ज़ुबान लड़खड़ाना, आंखों के आगे अंधेरा छाना, तेज़ पसीना आना और हाथ-पैर ठंडे पड़ जाना आदि इसके प्रमुख लक्षण हैं।

ऑर्टरी ब्लॉकेज के उपचार

रोज 3 से 4 किमी पैदल जाएं।

व्यायाम अवश्य करें। योगा करना भी आपके लिए फायदेमंद है।

शराब और धूम्रपान जैसी चीजों से जितना हो सके बचना उचित होता है।

इस रोग के रोगियों को हरी सब्जी जैसे- लौकी, पालक आदि का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

घी, मक्खन,मलाईदार दूध और तली हुई चीजों के सेवन कम से कम करना चाहिए।

ऐसे में अदरक को रस पीना भी हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है।

खाने में बैंगन का प्रयोग करने से कोलेस्ट्राहल की मात्रा में कमी आती है।

=>
LIVE TV