Friday , September 21 2018

महिलाओं को ही नहीं 30 के बाद पुरुषों को भी प्रोटीन की आवश्यकता

अगर स्वास्थ्य की बात की जाए तो पुरुषों को भी अपनी सेहत का उतना ही ध्यान रखना चाहिए जितना कि किसी महिला को। ज्यादातर पुरुष 50 की आयु के बाद ही जागरुक होते हैं। लेकिन उनका यह सोचना गलत है। पुरुषों को भी 30 की आयु के बाद से ही अपनी सेहत की तरफ ध्यान देना पड़ता है। पुरुषों के लिए प्राकृतिक तौर पर कद्ददू के बीज है। कद्ददू को कोहड़ा के तौर पर भी जाना जाता है। कद्ददू के बीज खाने के साथ-साथ सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कद्ददू के बीज कितने फायदेमंद है।

कद्ददू के बीज

प्रोटीन

कद्ददू के बीज की 100 ग्राम की मात्रा में लगभग 23.33 ग्राम प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है। इसे प्रोटीन बूस्ट के लिए कद्ददू के बीज बहुत ही उपयोगी होता है। इसका सेवन मांसपेशियों के निर्माण और मरम्मत के लिए आवश्यक है। यह प्रोटीन हमारी सेहत के लिए बहुत उपय़ोगी होता है।

यह भी पढ़ें: हरतालिका तीज 2018 : जानें हरतालिका तीज का शुभ मुहुर्त और व्रत के कठोर नियम

प्रजनन शक्ति

किसी पुरुष में शुक्राणु की गुणवता की कमी हो तो उसकी प्रजनन शक्ति पर असर पड़ता है। अगर कद्ददू के बीज को रोज सेवन किया जाए तो इसकी क्षमता बढ़ सकती है। कद्ददू के बीज में एंटीऑक्सीडेंट के भरपूर गुण पाए जाते हैं। जो पुरुषों में पाए जाने वाले हार्मोंन टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने में मदद करता है। इस स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं। साथ ही प्रोस्टेट समस्याओं को रोकने में भी मदद करता है।

लाभ

  • कद्ददू  के बीज जिंक में समृद्ध होते हैं, इसलिए वे कोशिकाओं के नवीनीकरण को प्रोत्साहित करते हैं, क्षति की मरम्मत करते हैं और स्वस्थ बालों को बढ़ावा देते हैं।
  • ये बीज फास्फोरस के शीर्ष स्रोतों में से एक हैं, जो आपके चयापचय को पंप करते हैं और ऊर्जा के लिए महत्वपूर्ण हैं।
  • कद्ददू  के बीज मैग्नीशियम में भी समृद्ध होते हैं, जो महत्वपूर्ण शारीरिक कार्यों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए महत्वपूर्ण है, जैसे दिल की पंपिंग, रक्त वाहिकाओं को आराम और पाचन क्रिया बेहतर बनाता है।
  • कद्ददू  के बीज में एंटी-इंफ्लामेट्री गुण पाए जाते हैं, जो शरीर की सूजन को कम करते हैं।
  • कद्ददू के बीज नींद और कम अवसाद को बढ़ावा देते हैं क्योंकि वे ट्राइपोफान में समृद्ध होते हैं।

 

 

=>
LIVE TV