खुलासा : पानी की जगह ‘जहर’ पी रहे हैं विराट कोहली, हकीकत आई सामने

नयी दिल्ली। एक शोध में बोतलबंद पेयजल बनाने वाली प्रमुख कंपनियों के 90 फीसदी जल में प्लास्टिक के सूक्ष्म कणों की मौजूदगी के बाद बवाल मच गया है। इस शोध के आने बाद बोतलबंद पेयजल कंपनियों की नींद उड़ गयी है। इस रिपोर्ट में भारत के कई प्रमुख ब्रांड, जिसमें बिस्लेरी और एक्वाफिना समेत अन्य शामिल हैं। लेकिन अब जो नयी खबर आई है उसमें चौकाने वाला खुलासा सामने आया है। आइये जानते हैं क्या है वो खबर जिसने भारतीय कप्तान कोहली के होश उड़ा दिए हैं।

विराट कोहली

दरअसल आप और हम तो महज 10 या 20 रुपये खर्च कर इन ब्रांड्स से पानी खरीदते हैं, लेकिन क्रिलकेटर विराट कोहली एक लीटर बोतल पानी के लिए 600 रुपये खर्च करते हैं। अपनी फिटनेस के लिए जाने वाले विराट कोहली ‘एवियान’ ब्रांड का पानी पीते हैं।

शोध में बताया गया कि जो व्यक्ति एक दिन में एक लीटर बोतल बंद पानी पीता है वह प्रतिवर्ष प्लास्टिक के दस हजार तक सूक्ष्म कण ग्रहण करता है।

यह भी पढ़ें :-ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचीं सिंधु

शोध में 100 माइक्रोंस और 6.5 माइक्रोंस के आकार के दूषित कणों की पहचान हुई। प्लास्टिक के छोटे कण औसतन प्रति बोतल 10.4 पाए गए। प्लास्टिक के सूक्ष्म कण तो 325 कण प्रति बोतल पाए गए।

बता दें बाजार में 147 अरब डॉलर प्रति वर्ष के व्यापार के साथ यह दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाला पेय उत्पाद उद्योग है।

यह भी पढ़ें :-IPL से पहले मुसीबत में फंसे सुनील नरेन, गेंदबाजी एक्शन पर फिर उठा सवाल

भारत में 64 किलोग्राम के वजन के स्वस्थ व्यक्ति को प्रतिदिन औसतन छह लीटर पानी पीना चाहिए। दूषित पानी पीने से कई जानलेवा बीमारियां जन्म ले लेती हैं।

इस रिपोर्ट में भारत के अलावा 9 देश शामिल हैं। अमेरिका,ब्राजील,चीन,इंडोनेशिया,केन्या,लेबनान,मेक्सिको और थाईलैंड जैसे देश सम्मिलित हैं।

=>
LIVE TV