यहां एक लाख रुपए किलो बिक रहा मीट, दूध की कीमत 80 हजार

 

नई दिल्ली। दक्षिण अमेरिकी देश वेनेजुएला की आर्थिक स्थिति दिन पर दिन और भी ज्यादा बदतर होती जा रही है। वहां की हालत ये हो चुकी है कि भूखे लोग दुकानों को लूटकर अपना पेट पाल रहे हैं। तेल के घटते दाम, बढ़ती मुद्रास्फीति और भ्रष्टाचार ने देश को काफी नुकसान पहुंचाया है।

वेनेजुएला

इस देश की हालत इतनी बिगड़ गई है कि लोग पड़ोसी देश कोलंबिया में शरण ले रहे हैं। यहां का आलम ये हो चुका है कि एक ब्रेड हजारों रुपयों में बेची जा रही है। एक किलो मीट के लिए 3 लाख रुपए और एक लीटर दूध के लिए 80 हजार रुपए तक खर्च करने पड़ रहे हैं।

यहां की सरकार ने दुनिया भर के देशों से गुहार लगाई है कि वे हालात सुधारने में उनकी मदद करें। वहीं कोलंबिया का कहना है कि चंद दिनों में वेनेजुएला के करीब 10 लाख लोग उसके यहां आकर शरण ले चुके हैं, जिसके चलते उनपर दबाव बन रहा है।

यह भी पढ़ें-7.5 की तीव्रता से कांप गया मेक्सिको, शक्तिशाली भूकंप के झटकों के बाद…

एक रिपोर्ट के अनुसार वेनेजुएला के लगभग 82 फीसद निवासी गरीबी में जी रहे हैं। इनमें भी 51 प्रतिशत लोग तो ठीक से अपना पेट भी नहीं भर पाते हैं। हालांकि सरकार इस आंकड़े से सहमत नहीं है।

कच्चे तेल के दाम में तेजी से हुई गिरावट के बाद से ही वेनेजुएला का आर्थिक संकट गहराता चला गया। स्थिति यह है कि देश का प्रशासनिक तंत्र ध्वस्त हो चुका है। राष्ट्रपति निकोलस मादुरो हालात को नियंत्रित कर पाने में बुरी तरह विफल रहे हैं।

यह भी पढ़ें-अमेरिकी चुनाव में दखल के लिए रूस के 13 नागरिकों पर आरोप तय

बता दें कि इससे पहले वेनेजुएला में 1989 में तेल के दामों में बड़ा इजाफा किया गया था, जब वैश्विक बाजार में तेल के दामों में कमी के चलते देश में आर्थिक संकट पैदा हो गया था। सरकार के इस फैसले के बाद व्यापक हिंसा भड़क गई थी, जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे।

=>
LIVE TV