पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में गरजे तोगड़िया, सरकार को दे डाली खुली चुनौती

अमित सिंह

वाराणसी मे मीडिया से बात करने के दौरान प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि सभी लोग एक साथ संकल्प ले कि काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर से कानून के सहारे ज्ञानवापी मस्जिद हटवायेंगे। साथ ही काशी कॉरिडोर के नाम पर एक भी मंदिर टूटने नहीं देंगे और टूटे मंदिर का पुन: निर्माण करेंगे। इसके अलावा उन्होंने कहा कि सावन के तीसरे सोमवार को देश के सभी शिव मंदिरों में एक साथ जलाभिषेक करें।

प्रवीण तोगड़िया

तोगड़िया ने सरकार से मांग की है कि वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में स्थित श्रृंगार गौरी के प्रतिदिन दर्शन की भी मांग की और कहा कि कोर्ट ने ऐसा कोई रोक नहीं लगाया है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मै जो कुछ भी बोल रहा हूँ वह केंद्र सरकार के बारे में है। प्रदेश की योगी सरकार के बारे में कुछ नहीं कहा। महंत योगी आदित्यनाथ मेरे पूजनीय हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के आंदोलन में शामिल होकर किसानों की कर्जमाफी का आंदोलन भी चलायेंगे। राम मंदिर, काशी विश्वनाथ और मथुरा के मंदिरों का भी अभियान चलेगा।

यह भी पढ़ें:- इंसानियत को शर्मसार देने वाली घटना, सात दिन बाद होश में आई लड़की ने सुनाई आपबीती

तोगड़िया ने चेतावनी देते हुए कहा कि काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर के नाम पर अगर और मंदिर तोड़े जाते है तो हम देश व्यापी आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि काशी विश्वाथ मंदिर की छाती पर ज्ञानवापी मस्जिद का होना गौरव नहीं, अपमान है। उन्होंने कहा कि मस्जिद विश्वनाथ परिसर से हटाकर दिखाओ तो मानेगे कि आप हो।

उन्होंने कहा कि सरकार के पास हिम्मत है, तो कानून बनाकर ज्ञानवापी मस्जिद हटाओ, मंदिर क्यों हटा रहे हो। ये चैलेंज नहीं उनकी हिम्मत को प्रोत्साहन दे रहा हूँ। प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि उन्होंने मांग की है कि देश में सरकार मुसलमानों का अल्पसंख्यक दर्जा खत्म करे।

यह भी पढ़ें:- निजी समारोह में जमकर हुआ तमंचे पर डिस्को, वीडियो देखकर प्रशासन के उड़े होश

तोगड़िया ने कहा कि औरंगजेब के समय के बचे मंदिर कैसे तोड़ सकते हो। ये सब काशी में इसलिए हो रहा है, क्योंकि सीएम आदित्यनाथ पर दिल्ली से दबाव बनाया जा रहा है। काशी की गलियों को सुरक्षित रहने दो। काशी की गलियों को क्योटो बनाने वाला काशी का भक्त नहीं हो सकता है।

देखें वीडियो:-

=>
LIVE TV