Tag Archives: प्रेरक प्रसंग

प्रेरक-प्रसंग: आइसक्रीम की एक डिश

आइसक्रीम की एक डिश

एक बार एक छोटा सा लड़का एक होटल में गया ।कुछ ही देर में वहां वेटर आया और पुछा आपको क्या चाहिए सर ? छोटे बच्चे ने उल्टा पुछा ! वैनिला आइसक्रीम(vanilla ice-cream) कितने रूपए का है ? उस वेटर वाले ने जवाब दिया 50 रुपये का । यह सुन कर उस ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग: संस्कार

संस्कार

लगभग दस साल का एक बालक राधा का गेट बेल बजा रहा था | राधा ने बाहर आकर पूछा क्या है क्यों बेल बजा रहे हो ? बालक बोला – आंटी जी क्या मैं आपका गार्डन साफ कर दूँ ? राधा – नहीं हमे साफ नहीं कराना | फिर हाथ ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग: सौन्दर्य का घमण्ड

प्रेरक-प्रसंग: सौन्दर्य का घमण्ड

आज जिस प्रेरक प्रसंग की बात कर रहें । वह है सौन्दर्य का घमण्ड । एक बार सम्राट चन्द्रगुप्त चाणक्य से किसी बात पर चर्चा कर रहे थे कि अकस्मात् चन्द्रगुप्त ने चाणक्य से कहा । ‘‘आपकी विद्धता, सूझबूझ और चातुर्य की मैं दाद देता हूं । मगर क्या ही ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग: भरे हुए में राम को स्थान कहाँ?

प्रेरक प्रसंग

एक सन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर आये, दुकान मे अनेक छोटे-बड़े डिब्बे थे, एक डिब्बे की ओर इशारा करते हुए… सन्यासी ने दुकानदार से पूछा: इसमे क्या है? दुकानदारने कहा: इसमे नमक है! सन्यासी ने फिर पूछा: इसके पास वाले मे क्या है? दुकानदार ने कहा: इसमे हल्दी है! इसी ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : माता पिता की सेवा ही सिद्धि प्राप्ति!

प्रेरक-प्रसंग : माता पिता की सेवा ही सिद्धि प्राप्ति!

महर्षि पिप्पल बड़े ज्ञानी और तपस्वी थे। उन की कीर्ति दूर दूर तक फैली हुई थीं एक दिन सारस और सारसी दोनों जल में खड़े आपस में बातें कर रहे थे कि पिप्पल को जितना बड़प्पन मिला हुआ है उससे भी अधिक महिमा सुकर्मा की है, पर उसे लोग जानते ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : ‘सुन्दरता’

कौआ

एक कौआ सोचने लगा कि पंछियों में मैं सबसे ज्यादा कुरूप हूँ। न तो मेरी आवाज ही अच्छी है, न ही मेरे पंख सुंदर हैं। मैं काला-कलूटा हूँ। ऐसा सोचने से उसके अंदर हीनभावना भरने लगी और वह दुखी रहने लगा। एक दिन एक बगुले ने उसे उदास देखा तो ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग: क्रोध की अग्नि!

प्रेरक प्रसंग ~ क्रोध की अग्नि!

“क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के समान है; इसमें आप ही जलते हैं।” ~  गौतम बुद्ध बहुत समय पहले की बात है। आदि शंकराचार्य और मंडन मिश्र के बीच सोलह दिन तक लगातार शास्त्रार्थ चला। शास्त्रार्थ मे निर्णायक थी- मंडन ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग: हाथी और रस्सी की कहानी

हाथी और रस्सी की कहानी

एक बार एक व्यक्ति शहर में रास्ते पर चलते हुए जा रहा था। अचानक ही वह एक सर्कस के बाहर रुक गया और वहां रस्सी से बंधे हुए एक हाथी को देकने लगा और सोचने लगा । वह सोच रहा था कि जो हाथी जाली, मोटे चैन या कड़ी को ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग: तुम्हारे विचार ही तुम्हारे कर्म हैं!

तुम्हारे विचार ही तुम्हारे कर्म हैं!

एक राजा हाथी पर बैठकर अपने राज्य का भ्रमण कर रहा था। अचानक वह एक दुकान के सामने रुका और अपने मंत्री से कहा: मुझे नहीं पता क्यों, पर मैं इस दुकान के स्वामी को फाँसी देना चाहता हूँ। यह सुनकर मंत्री को बहुत दु:ख हुआ। लेकिन जब तक वह ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग – सुखी और सफल जीवन का रहस्य

प्रेरक प्रसंग - सुखी और सफल जीवन का रहस्य

किसी बस्ती में एक उल्लू रहता था। उसकी बोली लोग बड़ी अशुभ समझते थे। इसीलिए कोई भी उसे अपने पास न आने देता था। जैसे ही वह बोलता, लोग उसे भगा देते थे। बस्ती वालों के इस व्यवहार से उल्लू बड़ा दुखी रहने लगा। एक दिन वह अपनी सहेली चमगादड़ ...

Read More »
LIVE TV