राम मंदिर के पक्षकार का आरोप, VHP ने खराब किए हालात

रिपोर्ट- सईद रजा

प्रयागराज में बीती रात अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की आपात बैठक सम्पन्न हुई। कुंभ मेले में भूमि आवंटन को लेकर अखाड़े के साधु संत नाराज है जिसके चलते ये बैठक की गई। श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में हुई इस ये बैठक अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी की अध्यक्षता में हो हुई।

धर्मदास

कुंभ के लिए  मेला प्रशासन अखाड़ा की भूमि को दूसरी जगह देने का फैसला किया है जिससे अखाड़ा परिषद नाराज़ है, अखाड़ा परिषद पुरानी जगह भूमि आवंटन की मांग कर रहे हैं। तो उधर प्रशासन ने गंगा के कटान की वजह बताकर अखाड़ों के जमीन की जगह को अलग किया है।

अखाड़ा अध्यक्ष नरेंद्र गिरी का कहना है कि वो प्रशासन की बात को इस बार मान ले रहे है लेकिन इसको प्रशासन परंपरा में शामिल न करे। दूसरा अखाड़ा परिषद आगामी 4और 5 दिसम्बर को राम जन्म भूमि के लिए अयोध्या में एक बैठक करने का फैसला लिया गया। इसमें राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर चर्चा की जाएगा तीसरा फैसला अखाड़ा परिषद की तरफ से ये लिया है कि अखाड़ा परिषद संत सम्मेलन का विरोध कर रहा है किसी भी संत सम्मेलन में अखाड़े का एक भी साधु संत नही जाएगा।

अखाड़ा परिषद से जुड़े साधु संतों ने अयोध्या में आगामी 25 नवम्बर को लाखों रामभक्तों की भीड़ बुलाने को बेबुनियाद बताया है और कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे पर सियासत लगातार गरम होती जा रही है।

प्रयागराज पहुंचे राम जन्म भूमि के पक्षकार धर्मदास जी महराज ने आज़ विहिप के नेताओं पर प्रदेश व देश का माहौल ख़राब करने का आरोप लगाया। धर्मदास जी ने कहा की आज़ जिस तरह राम मंदिर मुद्दे को लेकर सियासत हो रही है। वो कत्तई उचित नहीं है मामला न्यायालय में है हम सब चाहते हैं की न्यायालय इस पर ज़ल्द से ज़ल्द सुनवाई कर फैसला करे।

इसको लेकर हम दोनों पक्षों ने राष्ट्रपति को पत्र भी लिखा है। पत्र के माध्यम से हम लोगों की मांग है की रामजन्म भूमि मामले की सुनवाई नित्य प्रतिदिन करके ज़ल्द से ज़ल्द फैसला किया जाना चाहिए।

वहीं शिवसेना समेत तमाम संगठनों द्वारा 25 नवम्बर को अयोध्या में रामभक्तों की भीड़ बुलाए जानें पर सख्त नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा की विहिप समेत कुछ लोग हैं जो देश व प्रदेश का माहौल ख़राब करना चाहतें हैं।

चक्रवाती तूफान ‘गज’ तमिलनाडु तट से टकराया, 120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ़्तार से बही हवाएं

धर्मदास जी ने कहा की मामला न्यायालय में होने की वज़ह से वहां किसी भी तरह की भीड़ को एकत्रित करना किसी भी हाल में उचित नहीं है। इस दौरान महन्त धर्मदास जी ने विहिप के चम्पत राय पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा की इन सबकी वज़ह से आज़ अयोध्या में माहौल ख़राब करने की कोशिश की जा रही है जो किसी भी हाल में उचित नहीं है।

=>
LIVE TV