#NIA मामला: जांच में लगी एजेंसियां व पुलिस खुलासे के नजदीक

एजेन्सी/अथक मेहनत के बाद एनआईए डिप्टी एसपी तंजील अहमद हत्याकांड की जांच में लगी एजेंसियां व पुलिस खुलासे के नजदीक पहुंच गई हैं। यह दावा करते हुए जांच से जुड़े उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि 53 मोबाइलों की लोकेशन, सीडीआर, सर्विलांस समेत कई पहलुओं पर हुई मेहनत के बाद सहसपुर क्षेत्र के रहने वाले एक अपराधी का हाथ सामने आ रहा है। उसे दबोचने के लिए टीम भी रवाना की गयी है।

मंगलवार को एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत सिंह चौधरी जहां एक ओर इशारा कर गए कि हत्या का चाहे आतंकी कनेक्शन हो, हवाला, जाली करेंसी या कुछ और, एक बात निश्चित है कि हत्यारों का कनेक्शन सहसपुर और आसपास के क्षेत्र से जरूर है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक यह बात एडीजी यूं ही नहीं कह गए, बल्कि यह पुलिस व अन्य जांच एजेंसियों की अथक मेहनत से किसी निष्कर्ष पर पहुंचने के बाद कही गयी है। वारदात में प्रोफेशनल किलर्स का सहारा लिया गया। वारदात के समय सहसपुर बीटीएस टॉवर पर 53 मोबाइल एक्टीवेट थे।
इन सबकी कुंडली खंगालने में वक्त और मेहनत तो जरूर लगी, लेकिन इनमें एक नाम सहसपुर क्षेत्र के ऐसे अपराधी व्यक्ति का सामने आया जो कई कारणों से सबकी निगाह में खटक गया। यह अलीगढ़ और दिल्ली में हुए अपराधों में भी लिप्त बताया जाता है। आधिकारिक तौर पर जहां किसी भी पुलिस अधिकारी ने एडीजी के बयान के बाद जहां कुछ भी कहने को मुंह बंद कर रखे हैं।

सूत्रों का दावा है कि इस अपराधी की मौजूदा लोकेशन ट्रेस हो चुकी है और एक टीम उसे दबोचने के लिए रवाना भी हो चुकी है। इसके पकड़ में आने के साथ ही यह मर्डर मिस्ट्री पूरी तरह सुलझ जाएगी।

=>
LIVE TV