केजरीवाल के घर छानबीन में उजागर हुआ बड़ा झोल, ‘आप’ भी सोचने को मजबूर

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट मामले में सीसीटीवी फुटेज खंगालने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पहुंची दिल्ली पुलिस ने कहा कि जिस कमरे में कथित रूप से यह घटना हुई थी, वहां कोई कैमरा नहीं लगा हुआ है।

केजरीवाल के घर छानबीन में उजागर हुआ बड़ा झोल

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि वे लोग कॉरिडोर में लगे कैमरे के आधार पर जांच को आगे बढ़ाएंगे और साथ ही कहा कि मुख्यमंत्री के आवास में लगे 21 सीसीटीवी कैमरों में से सात काम नहीं कर रहे हैं।

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हरेन्द्र कुमार सिंह ने कहा, “ड्राइंड रूम के बाहर और कॉरिडोर में लगे सीसीटीवी फूटेज से हम पहले लोगों की आवाजाही को समझने और बाद में घटना को समझने की कोशिश करेंगे।” उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री के आवास में लगे कैमरे में समय 40.43 मिनट पीछे है। कैमरे का हार्ड डिस्क जब्त कर लिया गया है।”

डीसीपी ने कहा, “तलाशी के दौरान फोरेंसिक टीम भी वहां मौजूद थी, ताकि प्रमाणित एवं पेशेवर तरीके से सबूत इकट्ठा किया जा सके।”

बता दें यह टीम इस बात की भी जांच करेगी कि सात कैमरे क्यों नहीं काम कर रहे थे।

पुलिस अधिकारी ने इस बात पर प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया कि मुख्यमंत्री या उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से पूछताछ की जाएगी या नहीं। पुलिस ने मुख्यमंत्री आवास में सीसीटीवी कैमरों के रखरखाव के लिए जिम्मेदार लोगों से भी पूछताछ की है।

यह भी पढ़ें:- होली से ठीक पहले कोर्ट ने दिया करारा झटका, फिर गया लालू के अरमानों पर पानी

मुख्य सचिव ने मंगलवार को आरोप लगाया था कि केजरीवाल की उपस्थिति में प्रकाश जरवाल और अमानतुल्ला खान ने आपात बैठक के दौरान उनकी पिटाई की थी।

यह भी पढ़ें:- केजरीवाल की रैली में AAP विधायक के बिगड़े सुर, बोले- अधिकारियों के साथ करो ऐसा…

पुलिस के अनुसार, “यह घटना रात 12 बजे से 12.15 बजे के बीच हुई थी।” अधिकारी ने कहा कि 20 फरवरी को सीसीटीवी फूटेज मांगा गया था, लेकिन जब कोई प्रतिक्रिया नहीं आई तो उन्हें तलाशी करनी पड़ी।

देखें वीडियो:-

=>
LIVE TV