नकली मावे से हो सकती है यह खतरनाक बीमारी, परखे नकली-असली

त्योहार का सीजन हो और मिठाई ना हों ऐसा तो हो ही नहीं सकता है। जिन लोगों को मिठाई नहीं भी पसंद होगी तो उन लोगों को इस त्योहार में मिठाई से प्यार हो जाएंगा। इन दिनों हर तरफ मिठाईयों की धूम है। तो दूसरों तरफ खराब और बेकार मावा भी बाजार में तेजी से बढ़ रहा है। त्योहार के साथ-साथ बाजार में मिलावटी और दूषित मावा भी काफी बिकता है यहीं वो समय है जब बाजार में मावे की बहुत डिमांड होती है ऐसे में आप अपने घर में जो मिठाई लेकर आते हैं या जो मिठाई आप अपने दोस्तों को गिफ्त करते हैं वह कितनी नुकसानदायक हो सकती है इसका अंदाजा तो शायद आप लगा भी नहीं सकते हैं।

मिठाई

मावे को चेक करने के लिए आप काफी तरह के संसाधन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

थोड़ा सा मावा हाथ में लेकर इसकी गोली बना लें। अगर ये गोली फटने लगें तो इसका मतलब साफ है कि ये नकली है। इतना ही नहीं मावे को हाथ में लेते हुए अगर आपको चिकनापन न लगें, तो यह भी इस बात का इशारा है कि यह नकली है।

इस दीपावली वास्तु के अनुरूप घर को सजाएं, ध्यान रखें ये बातें

सबसे पहले मावे को खरीदने से पहले उसे अपने अंगुठे के नाखून पर रगड़े। रगड़ें के पीछे का मकसद उसकी महक को समझने से है अगर रगड़ने के बाद भी उसमें महक आती रहती है तो वह असली और नहीं आती तो वह नकली है।

मिठाई

मावे को टेस्ट करके भी चेक कर सकते है। इसके लिए मावा खरीदते समय थोड़ा सा पहले चखें। अगर इसका स्वाद कसैला इसका मतलब साफ है कि इसमें मिलावट है।

मावे को चेक करने का एक तरीका यह है कि एक बर्तन में थोड़ा-सा पानी डालकर गर्म करें। गर्म होने के बाद उसमें टिंचर आयोडीन की कुछ बूंदे डालें। अगर मावा मिलावटी होगा तो उसका रंग तभी बदलकर नीला हो जाएगा। अगर रंग नहीं बदलता मतलब आपका मावा असली है।

पेट्रोल, डीजल के दाम फिर घटे, कच्चे तेल के भाव नरम

आपको बता दें, मिलावटी मावा को तैयार करने के लिए सिंथेटिक दूध का इस्तेमाल किया जाता है। मिलावटी मावे के सेवन से कैंसर होने का डर रहता है। इतना ही नहीं नकली मावा के सेवन से लीवर में सूजन और आंतों में संक्रमण होने का डर भी बढ़ जाता है।

 

=>
LIVE TV