इस दीपावली वास्तु के अनुरूप घर को सजाएं, ध्यान रखें ये बातें

दीपावली का त्योहार भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। इस दिन मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूरे सच्चे दिल से पूजा करने का विधान है। इस त्योहार पहले लोग मां को प्रसन्न करने के लिए घर को लाइट और रंग-बिरंगे रंगों से सजाते हैं। दीपावली में रंगोली और तोरण का भी विशेष महत्व है। यह केवल सजाने के ही इस्तेमाल नहीं आती है। आप सभी हमेशा हर दीपावली पर अपने घर को सजाते होंगे लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे वास्तु के उपाय के अनुसार भी आप अपने घर को एक अलग लुक दे सकते हैं।

माता लक्ष्मी

तोरण से आएंगी खुशियां

आज के समय में लोगों को तोरण यानी कि बंधनवार लगाना बहुत बुरा लगता है। उनको यह गुजरे जमाने के साज और सज्जा का सामना नजर आता है। लेकिन अगर नजर उठाकर देखें तो यहीं तोरण घर में शुभता का प्रतीक होता है। लेकिन इन सब चीजों के साथ आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि रंग और दिशा के अनुसार किस तरह के तोरण का चुनाव अपने घर के लिए करें।

माता लक्ष्मी

यदि आपके घर का मुख्य द्वार पूर्व में है, तो हरे रंग के फूलों और पत्तियों का तोरण लगाना सुख-समृद्धि को आमंत्रित करता है।

धन की दिशा उत्तर के मुख्य द्वार के लिए नीले या आसमानी रंग के फूलों का तोरण लटकाना चाहिए।

यदि घर का प्रवेश द्वार दक्षिण दिशा में है तो लाल,नारंगी या इससे मिलते -जुलते रंगों से द्धार को सजाना चाहिए।

पश्चिम के मुख्य द्वार के लिए पीले रंग के फूलों के तोरण लाभ और उन्नति में सहायक होंगे।

ध्यान रहे पूर्व और दक्षिण के द्वार पर किसी भी धातु से बने तोरण को नहीं लगाना चाहिए।

पश्चिम और उत्तर दिशा के द्वार पर धातु का तोरण लगाया जा सकता है।

इसी प्रकार उत्तर,पूर्व और दक्षिण दिशा में बने प्रवेश द्वार पर लकड़ी का तोरण लगाया जा सकता है,लेकिन पश्चिम दिशा में लकड़ी से बने तोरण को लगाने से बचना चाहिए।

 

=>
LIVE TV