Wednesday , September 20 2017

मियादी बुखार पर नियंत्रण पाना है जरूरी नहीं तो हो सकता है…

मियादी बुखार के लिए जिम्मेदारमियादी बुखार के लिए जिम्मेदार जीवाणु संक्रमण को नियंत्रित कर भारत और पाकिस्तान में पित्ताशय कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। वैज्ञानिकों के एक दल ने यह जानकारी दी, इसमें एक भारतीय शोधकर्ता भी शामिल हैं। इस निष्कर्ष से जीवाणु संक्रमण और पित्ताशय कैंसर के बीच संबंध का पता लगता है। इसमें यह भी बताया गया है कि क्यों इस तरह के कैंसर के मामले पश्चिमी देशों में मामूली है, लेकिन ये भारत और पाकिस्तान में आम हैं।

नीदरलैंड कैंसर संस्थान के शोधकर्ता जैकस नीफजेस ने कहा, “यदि मियादी जीवाणु के कारक सलमोनेला टाइफी संक्रमण का इलाज तुरंत कर लिया जाता है तो इससे ट्यूमर के मामलों में मकई आने की प्रबल उम्मीद है।”

खाने के शौक़ीन लोगों के लिए ही है ये खास चावल, पास नहीं भटकेंगी बीमारियां

नीफजेस ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के सहकर्मी तिजियाना स्कानू और गोपाल नाथ ने इस बात का निरीक्षण किया कि किसी तरह से इस ट्यूमर का मुकाबला किया जा सकता है।

शुरुआती स्तर पर पित्ताशय कैंसर का पता लगाना बहुत मुश्किल है, क्योंकि इसके कोई लक्षण नहीं है और जब तक इसकी पहचान होती है तब तक मरीज को बचाने में बहुत देर हो जाती है।

जानिए ‘बनाना शेक’ सेहत के लिए क्यों खतरनाक है!

नीफजेस ने कहा, “यदि मियादी बुखार को नियंत्रित कर लिया जाता है तो भारत और पाकिस्तान में पित्ताशय कैंसर को होने से रोका जा सकता है।”

यह शोध पत्रिका ‘सेल होस्ट एंड माइक्रोब’ में प्रकाशित हुआ।

=>
LIVE TV