जौहर यूनिवर्सिटी के पास आलिया गंज मामले में सभागार में पत्रकारवार्ता

रामपुर – जौहर यूनिवर्सिटी के पास आलिया गंज गॉव में आज हुए बवाल के बाद अब पुलिस व प्रशासन ने सारे मामले को ले जा रही चर्चाओं पर सफाई देते हुए कलक्ट्रेट सभागार में पत्रकारवार्ता की।
सीडीओ व प्रभारी डी एम अमित किशोर ने कहा की लालपुर डैम से स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स के लिये वनाये जा रहे मार्ग का निर्माण पी डब्लू डी द्वारा किया जा रहा है जिसकी कुल लागत दस करोड़ पचास लाख है जिसमे ढाई करोड़ रूपये भूमि अधिग्रहण के लिए है। उन्होने बताया कि जिन लोगों की भूमि ली गयी है उनको मुआवजा भी दिया गया है।
लेकिन आलिया गंज में ग्राम सभा की जमीन पर अवैध रूप् से बनाये गये 6 मकानों बेदखली का आदेश दिया गया था। जिसमें से 2 लोगों ने खुद से अपने मकान तोड़ लिये। डीएम ने कहा कि जिन मकानों को तोड़ा गया है या तोड़ा जाना है उन्हें लोहिया आवास भी दिए जायेंगे। हाईकोर्ट से स्टे के बाबत उन्होंने बताया की माननीय उच्च न्यायालय का आदेश विधिक प्रक्रिया अपनाने का था जिसे पूरा किया गया है।
प्रभारी डीएम ने यह भी कहा कि जिला प्रशासन द्वारा मकान तोड़े जाने की बात गलत है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि मकान तोड़ने के विरोध में पिछले चार दिनों से चला आ रहा गतिरोध बेबुनियाद था या प्रशासन अब बैकफुट पर आकर सफेद झूठ बोलने पर आमादा है।
वहीं मामले में आज हुए हंगामे और पुलिस लाठीचार्ज की बाबत प्रभारी एसपी तारिक़ मोहम्मद ने बताया की आज सुबह बात चीत हो रही थी की कुछ बाहरी लोग आ गए और अचानक उत्पात मचाना शरू कर दिया ओर पुलिस पर पथराव किया जिसमें 9 पुलिस वाले घायल हुए जिनमे एक सब इंस्पेक्टर भी है । हालात कंट्रोल करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा।
उन्होंने कहा की धरने पर बैठे पूर्व जिलापंचायत अध्यक्ष अब्दुल सलाम को हिरासत में ले लिए गया है और उनके विरुद्ध शांति भंग करने के इलज़ाम में 151 के कार्रवाई की जायेगी। इसके अतिरिक्त मामले में अब तक पॉच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और पुलिस की ओर से दस नामजद और पचास अज्ञात के खिलाफ अजीमनगर थाने में एफआईआर दर्ज की गयी है।

=>
LIVE TV