Thursday , December 8 2016
Breaking News

अगर आप करते हैं हवाई सफ़र तो पढ़ें ये पोस्ट

नई दिल्‍ली। आज इस भागदौड़ भरी जिंदगी में हर किसी को जल्‍दी रहती है। समय की बचत के लिए लोग हवाई जहाज से यात्रा को ज्‍यादा तरजीह देने लगे हैं।

हवाई जहाज से यात्रा

हवाई जहाज में बैठते ही हमें इस बात का इंतजार रहता है कि पायलट कितनी जल्‍दी हमें गन्‍तव्‍य तक पहुंचा दे। पर एक क्‍या आप जानतें हैं कि अधिकतर पायलट शराब के टेस्‍ट में फेल शाबित हुए हैं।

भारत के नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू ने संसद में बताया है कि “वर्ष 2016 में जनवरी 1 से लेकर 31 अक्तूबर के बीच 38 पायलट और 113 कैबिन क्रू जहाज़ उड़ाने से पहले होने वाले शराब के टेस्ट में फ़ेल पाए गए”।

आंकड़े आपको इसलिए भी चौंका सकते हैं क्योंकि वर्ष 2015 में भी 40 पायलट इस टेस्ट में फ़ेल हुए थे जबकि 2014 में ये आंकड़ा 20 के आस-पास बताया गया था। यानी इस तरह के मामलों में कमी होती नहीं दिख रही है।

एयर इंडिया के वरिष्ठ सेवानिवृत्त अधिकारी ने बताया कि “ये आंकड़े वाकई ख़तरे का संकेत देते हैं और जब मैं कार्यरत था, उन दिनों पायलट और कैबिन क्रू को यदि सुबह जल्दी उड़ान भरनी होती थी तो वो आधिकारिक पार्टियों में भी शराब पाने से साफ मना कर देते थे।”

कुछ अन्य वरिष्ठ अधिकारियों का मानना है कि उड़ान से पहले अपने कर्मचारियों की मेडिकल जांच जैसे कड़े उड्डयन नियमों को लागू करने में भारत थोड़ा सुस्त ही रहा है।

आज की तारीख़ में अंतरराष्ट्रीय नियम ये कहते हैं कि उड़ान से पहले पायलट यदि नशे की हालत में पाया गया तो उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई में ज़रा भी रियायत नहीं बरती जाएगी।

हालांकि भारत में कोई भी पायलट और कैबिन क्रू उड़ान पर जाने से कम से कम 12 घंटे पहले 60 एमएल से अधिक एल्कोहल नहीं ले सकता है।

इसके बाद उड़ान से पहले टेस्ट में यदि उन्हें पॉजीटिव पाया जाता है तो उन्हें 20 मिनट का ब्रेक दिया जाता है ताकि ख़ुद को तरोताज़ा करके टेस्ट के लिए दोबारा तैयार कर सकें।

बात यहीं ख़त्म नहीं होती, इसके बाद हवाई अड्डे पर मेडिकल स्टाफ एक प्रत्यक्षदर्शी की मौजूदगी में उनका टेस्ट करता है और यदि इस टेस्ट में कोई पायलट या कैबिन क्रू फेल हो जाता है तो उसका लाइसेंस तीन महीने के लिए निलंबित कर दिया जाता है।

यही चूक यदि कोई पायलट या कैबिन क्रू दूसरी बार करता है तो उसका लाइसेंस तीन वर्ष के लिए निलंबित कर दिया जाता है। तीसरी बार चूक होने पर पायलट या कैबिन क्रू का लाइसेंस ही रद्द कर दिया जाता है।

भारत में पिछले साल से ये अनिवार्य बना दिया गया है कि क्रू मेंबर्स का जब अल्कोहल टेस्ट किया जाएगा तो उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

LIVE TV