हरेला को लेकर लोगों में उत्साह, हरियाली से जुड़ा है यह प्रसिद्ध पर्व

 रिपोर्ट – कान्ता पाल

 नैनीताल देवभूमि कहा जाने वाला उत्तराखंड जहां अपने तीर्थ स्थलों के कारण दुनिया भर में प्रसिद्ध है वही यहां की संस्कृति में जितनी भी विविधता दिखाई देती है शायद ही कहीं दिखाई देती हो।

हरेला

इस कारण ज्यादा लोक पर्व वाला राज्य इसको कहा जाता है। इन्हीं में से एक है हरेला पर्व आमतौर ये शब्द का स्रोत हरियाली से है हरेला पर्व से 9 दिन पहले घर के भीतर  मंदिर में सात प्रकार के बीज जो ,गेहूं ,मक्का, गहत, सरसों, उड़द, और भट्ट को टोकरी में रोपित किया जाता है ।

मूक बधिर युवक की तलाश में भटकता रहा परिवार, अभी तक नहीं मिला कोई सुराग

दसवें दिन इसे काटा जाता है इसी से फसलों की जानकारी ली जाती है इस पर्व पर भीमताल में हरेले मेले का आयोजन किया गया है इस मौके पर हरेले मेले में विभिन्न सांस्कृतिक दलों ने अपने कला के माध्यम से मुख्य मंच पर प्रदर्शन कर अपनी संस्कृति को लोगों के बीच दिखाया।

 

 

 

 

=>
LIVE TV