सैटेलाइट तस्वीरों से हुआ दावा, देपसांग में 20 साल पहले ही ठिकाना बना चुका है ड्रैगन

भारत चीन के बीच जारी सीमा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। लद्दाख में जारी विवाद में देपसांग में भी गतिरोध बना हुआ है। इसी बीच चीनी सैनिकों ने पेट्रोलिंग प्वाइंट 10, 11, 12 और 12 पर भी भारतीय पेट्रोलिंग को रोकना जारी रखा हुआ है। आपको बता दें कि इन चारों प्वाइंट्स पर भारतीय सेना परंपरागत तरीकों से पहले से ही पेट्रोलिंग करती आई है।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार कई सालों के इंफ्रास्ट्रक्चर विकास और अतिक्रमण के बाद चीन ने लद्दाख में भारतीय सीमा पर सैनिकों की उपस्थिति और पानी के जरिए प्रवेश के प्रयासों को तेज कर दिया है। लेकिन इससे पहले यह दिखाई देता है कि बीजिंग काफी हद तक अपना उद्देश्य हासिल कर चुका है। हालांकि हिमालय की तेज सर्दी में चीन एक बार फिर उस जगह पर गतिरोध बढ़ा सकता है जिससे वह उस विवादित क्षेत्र पर अपनी क्षमता के मुताबिक उपस्थिति बनाए रखे।

आपको बता दें कि ओपन सोर्स इंटेलिजेंस @detresfa_ की सेटेलाइट तस्वीरें यह बताती हैं कि चीन ने देपसांग इलाके में सन 2000 से ही अपने पैर जमाना शुरु कर दिया था।

=>
LIVE TV