#सिंहस्थ : मूर्ति लगाकर विवादों में फंसे नित्यानंद

simhastha_572089bda1906एजेंसी/ पहले एक सेक्स स्केंडल में फंस चुके स्वामी नित्यानंद अब सिंहस्थ में देवी- देवताओं के साथ अपनी मूर्ति लगाकर विवादों में आ गये हैं. सिंहस्थ में पधारे अखाड़ों के साधु, संत, महंत ने इस पर नाराजगी जताई है. इस मामले को अखाड़ा परिषद में भी उठाने की बात कही जा रही है.

उज्जैन के सदावल रोड़ स्थित नित्यानंद के शिविर में लोगों की भीड़ उमड़ रही है जिसमें उनके साथ उनकी मूर्ति की भी चर्चा है.पांडाल में पंच धातु की शिव –पार्वती की 12 फीट ऊँची और 5 टन वजनी मूर्ति के ठीक आगे नित्यानंद की मूर्ति लगी है.इसके अलावा कैम्प में 20 से अधिक लगी देवी देवताओं के साथ नित्यानंद की मूर्ति लगी है. इससे संत नाराज हैं.

नित्यानंद की मूर्ति लास एंजिलेस से बनकर आई है. इस मूर्ति पर मौसम का प्रभाव नहीं पड़ता. सिंहासन सहित यह मूर्ति 4 फीट की है जिसे किसी भक्त द्वारा भेंट दिया जाना बताया जा रहा है. नित्यानंद के इस कृत्य से सभी संत, महंत नाराज हैं. वे इस मुद्दे को अखाड़ा परिषद की बैठक में रखेंगे.एक संत ने उनके बहिष्कार करने की बात कही. पञ्च अग्नि अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर रामकृषणानन्दमहाराज ने कहा कि भगवान से बड़ा कोई नही है.जीवित होते हुए खुद की मूर्ति लगाने का क्या काम.इसे हटाना चाहिए.

लोगों की आस्था से खिलवाड़ नहीं होना चाहिए.वहीँ पंच दशनामी आवाहन अखाड़े के जय विजय भारती ने कहा कि देवी देवताओं के आगे नित्यानंद की मूर्ति लगाना गलत है.इसे सहन नहीं किया जा सकता. इस मामले को अखाडा परिषद के सामने रखा जाएगा. इसके अलावा कई संतों महंतों ने नित्यानंद की मूर्ति लगाने का विरोध किया.

उधर, नित्यानंद आश्रम का कहना है कि मूर्ति लगाना गलत नहीं है. हमारे यहाँ गुरु को भी भगवान का दर्जा प्राप्त है क्योंकि वह भगवान से मिलवाते हैं. भगवान के साथ गुरु की मूर्ति लगाने की परंपरा है.जो लोग विरोध कर रहे हैं वह गलत हैं.

चर्चा में आए थे स्वामी –   2010 में तमिल एक्ट्रेस रंजीता के साथ एक वीडियो लीक हुआ था जिसमें नित्यानंद कथित तौर पर रंजीता  के साथ आपत्तिजनक स्तिथि में पाए गए थे. तब नित्यानंद का खूब विरोध हुआ था. उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था. कुछ दिनों बाद उन्हें जमानत मिल गई थी.

=>
LIVE TV