सिंधिया ने हटा लिया अपना कदम वरना कमलनाथ कल ना ले पाते सीएम पद की शपथ

नई दिल्ली/भोपाल| मध्यप्रदेश में ज्येातिरादित्य सिंधिया को उपमुख्यमंत्री या प्रदेश कांग्रेस बनाए जाने की मांग को लेकर दिल्ली में डेरा डाले 20 से ज्यादा विधायक सिंधिया के निर्देश पर भोपाल लौट आए। ये विधायक सोमवार को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में शमिल होंगे। सिंधिया समर्थक विधायक शनिवार से दिल्ली में सिंधिया के आवास पर डेरा डाले हुए थे। विधायकों की मांग थी कि सिंधिया राज्य सरकार में बतौर उपमुख्यमंत्री जिम्मेदारी संभालें या प्रदेश अध्यक्ष बनें। सिंधिया ने समर्थक विधायकों को शांत रहने की हिदायत दी और फिर रविवार को निर्देश दिया कि वे दिल्ली से भोपाल पहुंचे, शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लें। सभी सिंधिया विधायक भोपाल लौट गए हैं।

चुनाव प्रचार अभियान समिति के संयोजक रहे मनीष राजपूत ने आईएएनएस को फोन पर बताया कि सिंधिया के निर्देश पर उनके समर्थक सभी विधायक भोपाल के लिए रवाना हो चले हैं। इन विधायकों का कहना है कि चुनाव सिंधिया को आगे कर लड़ा गया, इसलिए बड़ी जिम्मेदारी सििंधया को दी जाए, ताकि जनभावनाओं का सम्मान हो सके।

राज्य में कांग्रेस बहुमत के करीब पहुंच गई है और उसे अन्य का समर्थन भी मिल गया है। कमलनाथ 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। दूसरी ओर कांग्रेस के निर्वाचित विधायकों ने सिंधिया को उपमुख्यमंत्री या पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे हैं।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि राज्य में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं है, वह निर्दलीय, बसपा और सपा के समर्थन से सरकार बनाने जा रही है। इस स्थिति में कांग्रेस को इस बात का खतरा है कि कहीं असंतोष के चलते पार्टी को नुकसान न हो जाए।

युवाओं को रोजगार देने के लिए निवेशक सम्मेलन में 85000 करोड़ निवेश आकर्षित करने की कवायद

सूत्रों ने बताया कि विधायकों के दिल्ली में जमावड़े को लेकर सिंधिया पार्टी अध्यक्ष से मिले और उन्हें विधायकों की भावना से अवगत कराया। राहुल गांधी ने इस मसले को गंभीरता से लिया और सिंधिया से चर्चा की। इसके बाद सिंधिया ने विधायकों को निर्देश दिया कि वे जल्द भोपाल पहुंचें और शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लें। सिंधिया के निर्देश पर सभी विधायक भोपाल लौट आए हैं।

=>
LIVE TV