सामने आई अफसरों की बड़ी लापरवाही, बेकाबू हुआ वायरस…

आगरा। कोरोना वायरस नियंत्रण होने के स्थान पर फैलता ही जा रहा है। यूपी में सबसे ज्यादा मामले आगरा जिले से सामने आए हैं। वहीं पर ही अगर स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आए तो क्या होगा।
इसमें आगरा के सरोजिनी नायडू मेडिकल कॉलेज (एसएन मेडिकल कॉलेज) के प्रधानाचार्य के आकस्मिक छुट्टी लेने, कर्मचारियों के प्रशिक्षित न होने, मेडिकल कॉलेज में व्यवस्थित लैब न होने सहित कई कारण बताए गए हैं।

सामने आई अफसरों की बड़ी लापरवाही, बेकाबू हुआ वायरस...

महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा डॉ. केके गुप्ता के निर्देश पर किंग जार्ज मेडिकल यूनीवर्सिटी (केजीएमयू) लखनऊ के कुलसचिव आशुतोष दुबे ने मेडिसिन विभाग के डॉ. विवेक कुमार व रेस्पीरेटरी मेडिसिन विभाग के हेड डॉ. सूर्यकांत से आगरा में संक्रमण बेकाबू होने की जांच कराई थी।

जिसके घर आती हैं ये 3चीजें दूर हो जाती है सारी समस्या

टीम ने 17 अप्रैल को आगरा पहुंचकर एसएन मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों से पूछताछ की। वहां का निरीक्षण किया और पूरी रिपोर्ट बनाकर शासन को सौंप दी। सूत्रों के अनुसार रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि जिस समय आगरा में कोरोना वायरस का प्रकोप फैल रहा था, उस समय एसएन मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य के पद पर तैनाती को लेकर स्थितियां गड़बड़ थीं।

एसएन मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. जीके अनेजा सात अप्रैल को अचानक छुट्टी लेकर इलाज के लिए दिल्ली चले गए। डॉक्टर ने उन्हें दो हफ्ते की छुट्टी की सलाह दी थी। इसके बाद वह अचानक नौ अप्रैल को मेडिकल कॉलेज आए और ज्वाइन कर लिया।

 

=>
LIVE TV