शाहनवाज हत्याकांड के 5 आरोपी गिरफ्तार, 2013 की है घटना

REPORT-VILAJ/MUZZFAR NAGAR

मुज़फ्फरनगर में सन 2013 में थाना जानसठ क्षेत्र के गाँव कवाल में हुए शाहनवाज हत्याकांड में आज लगभग 5 वर्ष बीत जाने के बाद 6 आरोपियों में से 5 आरोपीयो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है ।

जानसठ पुलिस ने 5 आरोपियों पहलाद ,तेन्द्र उर्फ तेंदू,विशन,देवेंद्र,जितेंद्र को कोर्ट में पेश कर दिया है जहां उनके वकील द्वारा जमानत अर्जी लगाई थी लेकिन कोर्ट ने जमानत अर्जी खारिज कर उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है ।

शाहनवाज हत्याकांड

जबकि अभी 6 आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है ।आपको बता दे कि कोर्ट ने पिछले दिनों आरोपियो के कोर्ट में पेश ना होने पर घरों की कुर्की के आदेश कर दिए थे जिसके बाद आज जानसठ पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

आपको बता दे कि कवाल गांव में दो ममेरे भाई गौरव सचिन की पिट पिट कर हत्या कर दी थी वही शाहनवाज की हत्या भी पिट पिट कर उसी गांव में की गयी थी जिसमे शाहनवाज की हत्या का आरोप गौरव सचिन के परिजनों पर लगा था ।

वही इन तीन हत्याओं के बाद मुज़फ्फरनगर जनपद में सम्प्रदायिक दंगे भड़क गए थे और 65 से ज्यादा लोगो को मौत के काल मे समाना पड़ा था ।वही हजारो लोग घरों से बेघर होकर रिलीफ कैम्पो में रहना पड़ा था ।

बचाव पक्ष के वकील ने बताया कि अमीर अहमद ने जानकारी देते हुए बताया कि 2013 में दंगा हुआ था कवाल में जिससे कि पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में व जिला मुजफ्फरनगर में के अंदर दंगे हुए थे उसने शाहनवाज का जो मर्डर हुआ था और गौरव और सचिन का भी मर्डर हुआ था गौरव और सचिन के जो मुलजिमान थे उनको अनेबल कोर्ट से सजा मिल चुकी है।

मृतक गौरव के जो पिता हैं और अंडर 6 मुलजीमान जिसमें एक गौरव भी था जिसका नाम मरने की वजह से खत्म हो चुका था इन मुलजीमान के खिलाफ एफ आई आर दर्ज हुई थी लेकिन जांच अधिकारी ने इनके खिलाफ कोई सबूत नहीं पाए थे और माननीय न्यायालय में अंतिम रिपोर्ट पेश कर दी थी.

इस रिपोर्ट के खिलाफ मृतक शाहनवाज राणा के पिता अनेबल कोर्ट गए अनेबल कोर्ट ने एफआईआर को खारिज करते हुए मुकदमा दर्ज किया था और उसके बाद माननीय अदालत ने मेरे मोकिल्लन के खिलाफ 82 एनबीडब्ल्यू की कार्रवाई की थी और जैसे ही पुलिस आज अपनी कार्यवाही को अंजाम देने के लिए मेरे मुलजी मान के घर पर पहुंची वहीं पर बैठे थे.

मुज़फ्फरनगर में सामने आया राष्ट्रीय गान के अपमान का मामला, एडीएम फाइनेंस पर लगा आरोप

क्योंकि मेरे मोकिल्लन ने हमेशा अदालत के हुकुम का सम्मान किया है और इस सम्मान को मानते हुए घर पर मौजूद थे और जैसे ही पुलिस घर पर पहुंची तो उन्होंने पूछा कि क्या बात है हमें क्यों उठाने आए हो.

उन्होंने कहा कि आप मुलजिम हो इसमें तो उन्होंने कहा कि हम किसी भी चीज को नहीं जानते हैं फिर 302 में गिरफ्तार किया गया 6 मुलजिम है इसमें रविन्द्र पटवारी फरार है मान्य सुप्रीम कोर्ट ने भी उनको 1 महीने का टाइम दिया था वह पूरा हो चुका था और आज पांचो मुलजीमान को जेल भेज दिया गया।

 

=>
LIVE TV