व्यापारी ने खुद ही पुलिस को किया फोन, पहुँचने पर नजारा देख काँप गए पुलिसकर्मी

REPORT:-KASHI NATH/VARANASI

बिजनेसमैन ने डायल 112 पुलिस को बताया कि वह परिवार सहित जान देने जा रहा है। जब तक पुलिस पहुंची चारों ने जान दे दी थी। घटनास्थल पर स्थानीय पुलिस के साथ एसएसपी भी पहुंचे हैं। घटना के अन्य कारणों की पड़ताल की जा रही है। परिवार में काले पंखे की जाली बनाने का काम होता था। पुलिस के अनुसार, नचनी कुंआ निवासी चेतन तुलस्यान ने डायल 112 पर सूचना दी कि हम लोग आत्महत्या करने जा रहे हैं।

व्यापारी ने की ख़ुदकुशी

सूचना पर मौके पर पहुंची। प्रथम दृष्टया लगता है कि आर्थिक समस्या के कारण परिवार ने आत्मघाती कदम उठाया। पुलिस ने मकान का दरवाजा खुलवा कर बिजनेसमैन चेतन के बारे में पूछा तो उसके पिता ने कहा कि ऊपर छत वाले कमरे में लोग सो रहे हैं।

पुलिस ऊपर छत के कमरे में देखा तो एक एक कमरे में पति चेतन, पत्नी ऋतु फंदे से लटक रहे थे। दूसरे कमरे में बेटे हर्ष और बेटी गुनगुन का शव बिस्तर पर पड़ा था। फॉरेंसिक विभाग की टीम भी बुलाई गई। अधिकारी घटना के कारणों की पड़ताल में जुटे हैं।

पुलवामा शहीदों को याद कर देश की आँखें नम, लेकिन राहुल पूछ रहे ये सवाल

पूर्व में सामूहिक रूप से मौत को गले लगाया था कुछ परिवारों ने  16 अप्रैल 2014 में कपसेठी थाना क्षेत्र के रसुलहा गांव में हुई तीन लोगों के सामूहिक आत्मदाह किया था।जानकारी के मुताबिक स्व. श्याम नारायण उर्फ बबई मिश्रा के घर में उनकी पत्नी 70 वर्षीय श्यामा देवी, पुत्र अरविंद मिश्र और नातिन प्रिया उर्फ प्रियंका आग की लपटों से गंभीर रूप से झुलस गये थे।

जहां इलाज के दौरान तीनों की मौत हो गई। जबकि दूसरी घटना 30 अक्टूबर वर्ष 2019 में वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र के हुकुलगंज इलाके में हुई थी जिसमे,एक दंपति ने बुधवार को अपने दो बच्चों को जहर देकर खुद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मृतकों की पहचान किशन गुप्ता (32), पत्नी नीलम (28), बेटी शिखा (पांच) और बेटे उज्जवल (6) के रूप में हुई है।

=>
LIVE TV