विभाग ने इन बड़े राज्यों में जारी किया भारी बारिश का अलर्ट, इन जिलों के अगले घंटे भारी

देशभर के कई इलाकों में आज भी भारी बारिश का दौर जारी रहेगा। मौसम विभाग ने कुछ बड़े राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। देश के कई हिस्सों में बाढ़ से हाल बेहाल है। वहीं, पिछले दिनों राजधानी दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों में भारी बारिश ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया। हालांकि, एक दो दिन से यहां बारिश में कमी है। लेकिन तापमान में गिरावट देखी गई है और बादल छाए हुए हैं। इस बीच 25 अगस्त का पूर्वानुमान जारी करते हुए मौसम विभाग ने बिहार, राजस्थान समेत कई जगहों पर अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा केंद्रीय जल आयोग ने बाढ़ का पूर्वानुमान जारी करते हुए कुछ इलाकों में 6 घंटे के भीतर हालात खराब होने की बात कही है।

जल आयोग द्वारा कहा गया कि जम्मू कश्मीर के पुंछ, रियासी और रामबन जिलों- उत्तराखंड उपखंड के उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली और बागेश्वर जिले के कुछ जल क्षेत्रों और पड़ोस के इलाकों में अगले 6 घंटों में मध्यम बाढ़ का खतरा है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने भविष्यवाणी करते हुए बिहार, राजस्थान, ओडिशा और उत्तराखंड में आज भारी बारिश की संभावना जताई है। आईएमडी ने अपने अखिल भारतीय मौसम चेतावनी बुलेटिन में बताया, ‘गंगीय पश्चिम बंगाल और गुजरात में पृथक स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा और हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम राजस्थान, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, असम और मेघालय, मध्य महाराष्ट्र, कोंकण और गोवा, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल और केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।’

आईएमडी ने आगे कहा है कि कम दबाव वाला क्षेत्र दक्षिण पश्चिम राजस्थान और पास के क्षेत्रों पर स्थित है। अगले 24 घंटों के दौरान इसके बने रहने की संभावना है। आईएमडी ने सलाह देते हुए कहा, ‘मानसून गर्त सक्रिय है और अपनी सामान्य स्थिति के दक्षिण में है। अगले 2-3 दिनों के दौरान इसके सक्रिय रहने की संभावना है। उपरोक्त प्रणालियों के प्रभाव के तहत, गुजरात राज्य पर भारी से बहुत भारी बारिश और व्यापक वर्षा 25 अगस्त को दक्षिण पश्चिम राजस्थान में हो सकती है।

IMD ने अनुसार, ‘तेज हवा (50-60 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की गति) पश्चिमोत्तर और पश्चिम बंगाल के पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उससे सटे बहुत से इलाकों में चलने की संभावना है। इसके अलावा उत्तरी अरब सागर और गुजरात तट पर 45-55 किमी प्रति घंटे की गति से हवाएं चल सकती हैं।’

=>
LIVE TV