‘विजय दिवस’ पर प्रधानमंत्री ने कहीं ऐसी बात जिससे शहीदों का परिवार हो गया खुश

नई दिल्ली| राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को विजय दिवस के मौके पर 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में शहीद हुए भारतीय जवानों को याद किया।

राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, “विजय दिवस के मौके पर, हम कृतज्ञता के साथ अपने सशस्त्र बलों को याद करते हैं, जिन्होंने 1971 में हमारे देश की रक्षा की और मानव स्वतंत्रता के सार्वभौमिक मूल्यों को बरकरार रखा। विशेष रूप से, हम उन लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं जिन्होंने उस बहादुर प्रयास में अपनी जान गंवा दी।”

श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, “हम उन बहादुर सैनिकों के अदम्य साहस की भावना को याद करते हैं, जिन्होंने 1971 में लड़ाई लड़ी। उनके अविश्वसनीय साहस और देशभक्ति ने सुनिश्चित किया कि हमारा देश सुरक्षित रहे। उनकी सेवा हमेशा हर भारतीय को प्रेरित करती रहेगी।”

इस अवसर पर, रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने सेना प्रमुखों के साथ अमर जवान ज्योति में पुष्पांजिल अर्पित की।

युद्ध में शहीद जवानों की याद में अमर जवान ज्योति का निर्माण किया गया था।

एक ट्वीट में, सीतारमण ने कहा, “विजय दिवस के अवसर पर अमर जवान ज्योति पर श्रद्धांजलि अर्पित करने आए दिग्गजों, पूर्व सैनिकों के साथ बातचीत की। बातचीत के लिए भारत के रक्षा मंत्री कार्यालय में उनका स्वागत किया।”

1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत के उपलक्ष्य में हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है। इस युद्ध के परिणामस्वरूप एक नया देश बांग्लादेश अस्तित्व में आया।

अगर अभी नहीं किया ये काम तो PAN कार्ड हो जाएगा बेकार…

युद्ध के अंत में पाकिस्तानी सेना ने बिना शर्त आत्मसमर्पण कर दिया था।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने ट्वीट कर कहा, “16 दिसंबर 1971, सबसे छोटे युद्धों में से एक (13 दिन चला), सबसे बड़ा आत्मसमर्पण करने वालों में से एक है। हम भारतीय सेना और मुक्ति जोधाओं की बहादुरी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, जिन्होंने इस ऐतिहासिक सैन्य विजय को संभव बनाया।”

=>
LIVE TV