लाहौर में बच्चों के पार्क के बाहर आत्मघाती हमला

lahore-blast_landscape_1459118211एजेन्सी/पाकिस्तान के लाहौर में रविवार शाम एक चिल्ड्रनपार्क के बाहर हुए आत्मघाती हमले में कम से कम 69 लोगों की मौत हो गई है। डॉन न्यूज ने पुलिस के हवाले से बताया है कि शहर के गुलशन-ए-इकबाल पार्क के बाहर हुए इस जबरदस्त विस्फोट में 300 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। 

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के एक धड़े जमातुल अहरार ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। लाहौर के डीआईजी हैदर अशरफ ने कहा, ‘यह शक्तिशाली धमाका था। यह आशंका है कि आत्मघाती हमलावर ने पार्क के मेन गेट पर खुद को उड़ा लिया।’ हमलावर 20 साल का एक युवक बताया जा रहा है।

ईस्टर की छुट्टी के मौके पर रविवार शाम को शहर के पॉश रिहायशी इलाके में स्थित गुलशन-ए-इकबाल पार्क में काफी भीड़ थी। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, पार्क में खून ही खून और शव बिखरे पड़े थे। घायलों में ज्यादातर महिलाएं और बच्चे हैं। डॉन न्यूज से बातचीत में एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि पार्क में हर जगह मृतक और घायल पड़े थे। घायल लोगों को रिक्शा और टैक्सी के जरिये अस्पताल पहुंचाया गया।कई लोगों ने कहा कि पार्क के आसपास कोई सुरक्षा कर्मी तैनात नहीं था। एक व्यक्ति ने बताया कि यह पार्क बहुत बड़ा है और इसमें कई प्रवेश द्वार है। बचाव अधिकारियों और पुलिस ने कहा कि घटना की सूचना मिलते ही वे घटनास्थल पर पहुंचे।

पंजाब इमरजेंसी सेवा बचाव 1122 के प्रवक्ता दीबा शाहनाज ने कहा कि बड़ी संख्या में घायल लोगों की स्थिति गंभीर बनी हुई है। उन्होंने कहा कि विभाग के पास शाम 6:44 बजे इमरजेंसी कॉल आई थी और इसके बाद घटनास्थल पर 23 एंबुलेंस भेजे गए। घायलों को लाहौर के विभिन्न अस्पतालों में दाखिल कराया गया।

डॉक्टरों का कहना है कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। लोगों से घायल लोगों के लिए रक्तदान करने की अपील की गई। शहर के सभी सरकारी अस्पतालों में इमरजेंसी घोषित कर दी गई और भारी संख्या में पुलिस बल ने क्षेत्र को सील कर दिया। पुलिस अधिकारियों के अनुसार इस धमाके के लिए 10 से 15 किलोग्राम विस्फोटक सामग्री का इस्तेमाल किया गया होगा। मौके से बॉल बेयरिंग बरामद हुई हैं।

इस हमले की जिम्मेदारी लेने वाले आतंकी संगठन जमातुल अहरार ने दावा किया है कि उसके निशाने पर ईसाई समुदाय था। संगठन के एक प्रवक्ता एहशानुल्लाह एहसान ने हमले के बाद बयान जारी कर कहा कि धमाके में ईसाईयों को लक्ष्य किया गया था।

हम प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तक संदेश पहुंचाना चाहते थे कि हम लाहौर में घुस गए हैं। वह जो चाहें कर सकते हैं लेकिन हमें रोक नहीं पाएंगे। हमारे आत्मघाती हमलावर इस तरह के हमले जारी रखेंगे। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने इस बात को खारिज किया है कि आतंकियों के निशाने पर ईसाई थे।

उनका कहना है कि यह पार्क केवल ईसाईयों के लिए नहीं था। मरने वालों में यह समुदाय भी हो सकता है। अमेरिका ने पाकिस्तान में हुए आत्मघाती हमले की निंदा की है। अमेरिकी नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि उनका देश अपने सहयोगियों के साथ पाकिस्तान और पूरे क्षेत्र में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जारी रखेगा।

=>
LIVE TV