लाखों विद्यार्थियों को झटका, SOCIAL MEDIA पर दो पेपर आउट

एजेन्सी/ wrong-questions-paper-56f0df2e3ca43_lमहर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय की दो परीक्षाओं के दो पर्चे बुधवार को इम्तहान से पहले सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। पर्चे वायरल होने से हड़कम्प मच गया। प्रारंभिक जांच में वायरल हुए पेपर और विश्वविद्यालय के अधिकृत पेपर के कुछ प्रश्नों में समानता सामने पाई गई है। हालांकि विवि प्रशासन ने पेपर लीक होने से इन्कार किया है। अलबत्ता प्रशासन ने उच्चस्तरीय जांच और पुलिस में एफआईआर दर्ज कराने का फैसला किया है।

कुचामन शहर में सुबह ग्यारह बजे से बीएससी द्वितीय वर्ष के भौतिक विज्ञान विषय की परीक्षा होनी थी। परीक्षा शुरू होने से करीब दो घंटे पहले कुछ परीक्षार्थियों के पास सोशल मीडिया से प्रश्न पत्र पहुंच गए। प्रश्न हाथ से कॉपी के पन्ने पर लिखे हुए थे। उन्होंने तत्काल पुलिस को इसकी सूचना दी। 

इसके बाद अपराह्न 3 बजे बीएससी तृतीय वर्ष के गणित विषय की परीक्षा होनी थी। इसका पेपर भी सुबह 11.30 बजे सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसकी सूचना विवि प्रशासन को दी गई। प्रारंभिक पड़ताल में सोशल मीडिया पर वायरल हुए पेपर और विवि के पेपर में कुछ समानता सामने आई। लेकिन विवि ने अधिकृत रूप से पर्चा आउट नहीं माना।

क्रमबद्ध हैं प्रश्न

प्रारंभिक पड़ताल में सोशल मीडिया पर वायरल हुए पेपर और विश्वविद्यालय के अधिकृत पेपर के प्रश्न क्रमबद्ध मिले। प्रश्नों की क्रमबद्धता को लेकर दिनभर चर्चाएं रहीं। पुलिस भी प्रारंभिक जांच में जुटी रही।

कीमत दो हजार तक

परीक्षार्थियों के बीच वायरल हुए पेपर की कीमत दो हजार तक बताई जा रही है। इस मामले में पुलिस जांच कर रही है। सूत्रों के मुताबिक एक छात्रावास के संचालक द्वारा विद्यार्थियों को यह प्रश्न लिखवाया जाना सामने आया है। बाद में यह व्हाट्स एप एवं अन्य साधनों से सवाल वायरल हुए।

इनका कहना है

विश्वविद्यालय को दोनों परीक्षाओं के पेपर सोशल मीडिया में आने की सूचना मिली है। इनकी प्रारंभिक पड़ताल शुरू कर दी गई है। दोनों पेपर आउट होने की श्रेणी में नहीं है। फिर भी विश्वविद्यालय उच्च स्तरीय जांच करेगा। इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी।

डॉ. जगराम मीणा, परीक्षा नियंत्रक मदस विवि अजमेर

सोशल मीडिया पर विश्वविद्यालय के पेपर वायरल होने की जानकारी मिली है। इसके आधार पर जांच पड़ताल की जा रही है।

=>
LIVE TV