सबकुछ वश में करने वाले रावण के ये सात सपने रह गए अधूरे

रावण के अधूरेकोई भी इंसान हो वह सपने जरुर देखता है. वह पूरे हो या नहीं ऐसा जरूरी नहीं है. ऐसा ही कुछ रावण के साथ हुआ. रावण ने सपने तो देखें लेकिन वह कभी पूरे नहीं हुए. आइए जानते हैं रावण के अधूरे सपनों के बारे में.

स्वर्ग की सीढ़ी बनाना

रावण की इच्छा स्वर्ग तक सीढ़ियां बनाने की थी. वह चाहता था कि लोग भगवान की पूजा न करें और उसकी पूजा करें ताकि उन्हें स्वर्ग की प्राप्ति हो सके.

शराब से दुर्गंध दूर करना

रावण मदिरा प्रेमी था. उसका सपना था कि वह मदिरा की दुर्गंध मिटा दें. वह उस जमाने के विज्ञान और तकनीक का जानकार था लेकिन उसका सपना कभी पूरा नहीं हो पाया.

समुद्र के पानी को मीठा बनाना

रावण समुद्रों का पानी मीठा करना चाहता था.

काले रंग को गोरा करना

रावण खुद काला था इसलिए वो चाहता था कि मानव प्रजाति में जितने भी लोगों का रंग काला है वे गोरे हो जाएं, ताकि कोई भी महिला उनका अपमान न कर सके.

यह भी पढ़ें : नहीं हुआ था रावण का अंतिम संस्कार, इस गुफा में मौजूद है शव !

बाली से जीत

बाली ने रावण को हराया था और वह उसे अपने बाजू में दबाकर समुद्रों की परिक्रमा भी किया करता था. रावण दुर्भाग्य ने यही उसकी पीछा नहीं छोड़ा. पराजय के बाद उसे बच्चों ने पकड़कर अस्तबल में घोड़ों के साथ बांध भी दिया था. बाली को जीतने का सपना कभी पूरा नहीं हुआ.

सोने को खुशबुदार बनाना

रावण के अनुसार, सोने में सुगंध होनी चाहिए. ताकि रावण को सोना ढूंढने में परेशानी न हो. दुनियाभर के सोने पर खुद कब्जा जमाना चाहता था.

खून का रंग बदलना

रावण खून का रंग बदलना चाहता था. वह खून का रंग सफेद करना चाहता था. उसने युद्ध में अनेक निर्दोष लोगों का खून बहाया था. इससे धरती खून से लाल हो गई थी. खून सफेद रंग का हो जाए ताकि वह पानी के साथ मिलकर उसके अत्याचारों को छुपा दे.

 

 

=>
LIVE TV