भूषण-“न्यायपालिका में है सुधार की आवश्यकता”

prashant-bhushan_559526b04d36aएजेन्सी/भोपाल : देश के लोकप्रिय एडव्होकेट और सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण द्वारा कहा गया कि देश की न्यायिक व्यवस्था चरमराई हुई है इसे सुधारने हेतु देश में कानूनी जागरूकता के ही साथ सामाजिक जागरूकता का बड़ा आंदोलन चलाने की आवश्यकता है। प्रशांत भूषण द्वारा यह भी कहा गया कि न्यायपालिका एक महत्वपूर्ण संस्थान है। इसे सुधारे जाने की बेहद आवश्यकता है। इसके लिए व्यापक आंदोलन चलाने की आवश्यकता है। प्रशांत भूषण द्वारा यह कहा गया कि देश में न्यायपालिका का उत्तरदायित्व अगले पायदान पर नहीं है।

सरकार और न्यायपालिका से स्वतंत्र कोई संस्था नहीं थी वहां पर न्यायपालिका की शिकायत की जा सकती है। उच्च स्तर पर यह अंतर होने के कारण ही न्याय व्यवस्था में भ्रष्टाचार फैल रहा है। प्रशांत भूषण द्वारा यह कहा गया कि राष्ट्र में कानूनी जागरूकता बहुत ही आवश्यक है। न्यायालय की प्रणाली गड़बड़ाई हुई है। उसकी सुनवाई नहीं हो पाती है। ऐसे में लंबी – लंबी तारीखें मिलती हैं। जिसके कारण देश में कानूनी जागरूकता के ही साथ न्याय व्यवस्था को लेकर सामाजिक जागरूकता का होना भी आवश्यक है।

प्रशांत भूषण ने अन्ना हजारे का नाम लेकर कहा कि देश में कानूनी जागरूकता आवश्यक है। सरकार के विरूद्ध वे न्यायालय में भी जा सकते हैं। न्यायालय की प्रणाली पर भी इसका असर हो रहा है। उनका कहना था कि भ्रष्टाचार के विरूद्ध देश में अन्ना हजारे के नेतृत्व में बड़ा आंदोलन चलाया गया है। जिसके कारण देश की न्याय व्यवस्था को लेकर सामाजिक जागरूकता होना बेहद आवश्यक है। 

=>
LIVE TV