भारत रत्न के सम्मान पर मचा घमासान! प्रणब मुखर्जी को मिलने पर आजम समेत ओवैसी ने उठाए गंभीर सवाल

नई दिल्ली। 26 जनवरी की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की घोषणा के बाद मसले पर घमासान मच गया है। मुखर्जी को भारत रत्न दिए जाने पर सपा नेता आजम खान समेत एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल उठाए हैं।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, मामले पर बयान देते हुए आजम खान ने कहा कि डॉ. मुखर्जी को जब भारत रत्न दिए जाने की सूचना मिली थी तो उन्होंने कहा था कि मैं नहीं जानता कि क्या मैं इसके लायक हूं। शायद उन्हें भी समझ नहीं आया की भाजपा सरकार ने उन्हें भारत रत्न क्यों दिया।

उन्होंने कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है। प्रणब ने संघ की दावत कुबूल की थी और एक कार्यक्रम में उनके हेड क्वार्टर गए थे, भारत रत्न उसी का इनाम है। वहीं खान ने भाजपा के प. बंगाल में राजनीतिक जमीन तलाशने की कोशिशों के सवाल पर कहा कि भाजपा पैर जरूर पसारे, लेकिन ख्याल रखे कि नीचे तेजाब न हो।

आजम खान के अलावा भारत रत्न मसले पर प्रतक्रिया व्यक्त करते हुए ओवैसी ने कहा कि भारत रत्न जितने लोगों को दिया गया, उनमें से कितने दलितों, आदिवासियों, मुसलमानों, गरीबों, सामान्य वर्ग और ब्राह्मणों को यह सम्मान दिया गया।

इससे पहले ओवैसी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न सम्मान दिए जाने पर सवाल उठाए थे। उन्होंने लालकृष्ण आडवाणी को पद्म विभूषण दिए जाने का भी विरोध किया था।

कल राम मंदिर मामले पर अहम कदम उठा सकती है सरकार, होगा ये बड़ा एलान

रविवार को ठाणे में एक सभा में ओवैसी ने कहा कि बाबा साहब को भारत रत्न दिया गया, पर दिल से नहीं मजबूरी की हालत में दिया गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमारी नस्लों को बर्बाद कर दिया। हम पर मुस्लिम राजनीति करने का इल्जाम लगाया जाता है पर जब राहुल गांधी कहते हैं कि कांग्रेस हिन्दुओं की पार्टी है तब कोई कुछ नहीं कहता।

=>
LIVE TV