भारत में कोरोना वैक्सीन को मिली मंजूरी,रूस की कंपनी के साथ हुआ समझौता

नई दिल्ली: देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है वहीं कोरोना की वैक्सीन के इंतजार में कई महीने बीत गए। ऐसे में रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन को भारत में बेचने के लिए भारत की बड़ी फार्मा कंपनी डॉ. रेड्डीज के साथ समझौता हो गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, रूस का सॉवरेन वेल्थ फंड आरडीआईएफ भारत की जानी-मानी फार्मा कंपनी डॉ रेड्डीज को 10 करोड़ डोज़ बेचेगा।

ऐसे में सबसे अहम बात तो ये है कि इसके लिए भारत की तरफ से सभी रेग्युलेटरी मंजूरी मिल गई है। बता दें कि इस खबर के बाद डॉ रेड्डीज के शेयर में जोरदार तेजी आई। जीं हां बुधवार को कंपनी का शेयर 4.36 प्रतिशत की बढ़त के साथ 4637 रुपये की कीमत पर बंद हुआ है।

भारत में कोरोना का दौर मार्च से शुरू हुई था, इसके बाद से देश में कोरोना का संक्रमण बढ़ता गया। ऐसे में देशवासियों को कोरोना वैक्सीन का बहुत बेसब्री से इंतजार है। रूस की करोनो वैक्सीन के बारे में आपको बता दें, इस वैक्सीन का नाम ‘स्पुतनिक वी’ दिया है और रूसी भाषा में ‘स्पुतनिक’ शब्द का अर्थ सैटेलाइट होता है। रूस ने ही विश्व का पहला सैटेलाइट बनाया था। उसका नाम भी स्पुतनिक ही रखा था।

और अब रूस ने कोरोना की वैक्सीन भी सबसे पहले बनाई है। ऐसे में नए वैक्सीन के नाम को लेकर ये भी कहा जा रहा है कि रूस एक बार फिर से अमरिका को ये दिखाना चाहता है कि वैक्सीन की रेस में उसने अमरिका को पछाड़ दिया है। बिल्कुल उसी तरह जैसे कि सालों पहले अंतरिक्ष की रेस में सोवियत संघ ने अमरिका को पीछे छोड़ा था।

=>
LIVE TV