बालिकाओं के दो गुटों में इस बात पर विवाद, जिसके मद्देनजर 27 छात्राओं को हॉस्टल छोड़ने का आदेश

 रिपोर्ट – भुपेन्द्र बरमण्डलिया

झाबुआ। पश्चिमी आदिवासी अंचल झाबुआ जिले के तमाम कस्तूरबा गांधी शासकीय छात्रावास की स्थिति दिन-ब-दिन बै पटरी होती हुई नजर आ रही। कभी इन होस्टल में रहने वाली बालिका फांसी के फंदे पर झूल जाती है तो कभी कलेक्ट्रेट कार्यालय पर धरना आंदोलन  हॉस्टल अधीक्षका के खिलाफ करती है। मेघनगर के कस्तूरबा गांधी हॉस्टल में  बालिकाओं के दो गुटों के आपसी विवाद में जिला शिक्षा अधिकारी के आदेश के बाद हॉस्टल की बालिकाओं को अवकाश पर जाने के आदेश दिए गए । जिसके बाद बालिकाओं के परिजनों में रोष नजर आया। बालिकाओं को हॉस्टल से अवकाश देकर घर भेजने के बाद बालिकाओं के परीक्षाफल पर भी विपरीत परिणाम आने का आदेश है।

झाबुआ

छात्रावास में रहने वाली बालिका ने बताया कि दो गुटों में अक्सर झगड़े होते हैं सामने वाली बड़ी लड़कियां हमें डराती है और अश्लील बातें कहती है इतना ही नहीं बाथरूम में हमे ले जाकर गला घोटने तक की बात भी कहकर हमे धमकाती है.. हॉस्टल की सीनियर बालिकाए हमारे कपड़ों में खुजली चलने वाली कीमच तक रख देती है। हॉस्टल अधीक्षका भी पिछले 24 तारीख से हॉस्टल में नहीं है हम अकेले कैसे रहे आगामी दिनों में परीक्षा भी है हमारी पढ़ाई ख़राब हो रही है।

तीन नाबालिग बहनों के साथ रेप, राम कथा वाचक पर लगा ऐसा संघीन आरोप

पूरे मामले को लेकर हॉस्टल की बालिकाओं के परिजनों ने रोष व्यक्त किया है उनका कहना है कि कुछ बालिकाओं के पास में वर्जित सामग्री प्राप्त हुई थी उन्हीं पर कार्रवाई करनी थी निर्दोष बालिकाओं पर कार्रवाई करके हॉस्टल खाली करा दिया गया जिससे बालिकाओं की पढ़ाई पर विपरीत असर पड़ेगा।

कस्तूरबा बालिका विवाद में जिम्मेदारों का कहना है कि छात्रावास की कुछ बालिकाएं बालिका कलेक्टर से मिलने गई थी जिला शिक्षा अधिकारी का आदेश पर जब तक हॉस्टल अधीशिका की नियुक्ति नहीं हो जाती तब तक हॉस्टल को बंद करने के आदेश दिए हैं।

परदे के पीछे कुछ सफेदपोश आवारा असामाजिक तत्वों भी निशाने पर आ सकते हैं !अब आवश्यकता है दृढ़ता से कड़ी जांच की ! इसके बाद आगामी दिनों में परीक्षा है। यदि सख्त कार्रवाई की जाए तो बालिका फिर से अपना भविष्य गढ़ सकती है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा भी मध्य प्रदेश सरकार का साकार होता नजर आ सकता है।

 

=>
LIVE TV