बांग्लादेश से आ रही हैं 2 हज़ार की नकली नोटों की बाढ़…

8 अक्टूबर 2016 में भारत सरकार द्वारा नोटबंदी का फैसला लिया गया था.  बतादें की सरकार के इस फैसले से  पूरे देश में 1000 , 100 , 500 की नोटे बंद कर दी गयी थी.

 

 

 

वहीं रक्षा एजेंसियों की लगातार धरपकड़ के बावजूद पड़ोसी देश बांग्लादेश के जरिए पश्चिम बंगाल के रास्ते भारत में 2 हजार और 500 के नकली नोटों की तस्करी बदस्तूर जारी है.

बीएमडब्ल्यू शामिल हुई मोदी के काफिले में , कीमत दो करोड़ के पार…

जहां दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में रहने वाले एक ओर शख्स को गिरफ्तार करके 70 लाख के नकली नोट रिकवर किए हैं.

जहां उसे रिकवर किए गए सभी नोट अच्छी क्वालिटी के हैं.0 उनमें असली नकली होने का पता आसानी से नहीं लगाया जा सकता. इसमें उम्दा क्वालिटी के पेपर का इस्तेमाल किया गया है. आरोपी ने पुलिस को बताया कि बीते 1 साल में वह एक करोड़ रुपए से ज्यादा के जाली नोट खपा चुका है.

यहां बताना महत्वपूर्ण है कि नोटबंदी के बाद से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल 1 करोड़ 10 लाख के नकली नोट रिकवर कर चुकी है, जिनमें से 92 लाखों रुपए बांग्लादेश वाले रूट से रिकवर किए गए. बाकी लगभग ₹18 लाख रुपए पाकिस्तान के रूट से तस्करी होते पकड़े गए. इस आंकड़े से जाहिर है कि सबसे ज्यादा तस्करी बांग्लादेश के जरिए हो रही है. पश्चिम बंगाल के मालदा जिले से बांग्लादेश जाकर नकली नोटों की खेप लाने वाले 30 से ज्यादा तस्करों को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पिछले 1 साल में गिरफ्तार कर चुकी है.

डीसीपी स्पेशल सेल प्रमोद कुशवाहा के अनुसार, स्पेशल सेल की टीम बांग्लादेश से नकली करेंसी लाने वाले कई सप्लायर्स को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है. इस रूट पर लगातार काम जारी है.

वहीं इसी सिलसिले में स्पेशल सेल को सूचना मिली कि बांग्लादेश बॉर्डर के जरिए पश्चिम बंगाल के मालदा से जाली नोटों की खेप भारत आ रही है. इस सूचना पर इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की देखरेख में एक टीम को पता चला की मालदा के गुलाबगंज से यह जाली नोट आ रहे हैं.

मालदा का रहने वाला अमर मंडल 6 नवंबर को जाली नोटों की खेप लेकर दिल्ली के ओखला सब्जी मंडी पर नोट डिलीवरी करने आने वाला है, इस जानकारी पर पुलिस ने वहां ट्रैप लगाकर अमर मंडल को गिरफ्तार कर लिया. उसके पास से 2000 के 303 नोट बरामद हुए. वहीं 500 रुपये के 188 जाली नोट बरामद हुए.

दरअसल आरोपी का कहना हैं की वह मालदा के कालीचक गांव का रहने वाला है. वहां एजूल मियां उसे यह नोट देता है, जिसे वह दिल्ली एनसीआर के अलावा बिहार में भी सप्लाई करता है। यह धंधा बीते 3 साल से कर रहा है. नोटबंदी के बाद से 1 करोड़, 10 लाख रुपए के नकली नोट रिकवर किए जा चुके हैं.

यह सभी नोट पाकिस्तान और बांग्लादेश के जरिए भारत तक पहुंचे, 92 लाख रुपये के नकली नोट बांग्लादेश के जरिए पश्चिम बंगाल वाले रूट से भारत में आए, बाकी पाकिस्तान के रूट से….अब तक 30 से ज्यादा नकली नोटों के सप्लायर्स गिरफ्तार किए जा चुके हैं

=>
LIVE TV