फिल्मों से लेकर नाटक तक में निभाया काफी अहम रोल,जिसके लिए जेल की हवा पड़ी”हैप्पी बर्थडे”

अपनी अदाकारी से दर्शकों का दिल जीतने वाले एक्टर उत्पल दत्त का व्यक्तित्व काफी बोल्ड था. उनके विचारों की झलक उनके काम में भी देखने को मिलती थी. उत्पल दत्त का जन्म 29 मार्च, 1929 को पूर्वी बंगाल के बारीसाल में एक हिन्दू परिवार में हुआ था. उत्पल ने 1945 में मेट्रिक की परीक्षा पास की और 1949 में सेंट जेवियर कॉलेज, कोलकाता से इंग्लिश लिट्रेचर में डिग्री हासिल की।उत्पल दत्त के नाटक ऐसे विषय पर होते थे कि सरकार को उनकी देशभक्ति पर शक होने लग जाता था. उस दौरान उन्हें अंगार और कल्लोर जैसे नाटक लिखने पर बिना किसी ट्रायल के जेल भेज दिया गया था. फिल्मों की बात करें तो भुवन शोम, गोलमाल, नरम गरम, अंगूर, अगंतुक और शौकीन जैसी फिल्मों में काम किया.  19 अगस्त 1993 को उत्पल दत्त का निधन हो गया था. उन्होंने लगभग 100 से ज्यादा फिल्मों में काम किया था. उत्पल को डायरेक्टर ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्में गोलमाल, नरम गरम और रंग बिरंगी के लिए कॉमेडी जॉनर के फिल्मफेयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था

उत्पल दत्त ने भले ही कई सारी फिल्मों में काम किया मगर उनका असली झुकाव हमेशा थियेटर से ही रहा. उन्हें शेक्सपियर साहित्य से बेहद प्यार था. साल 1950 के बाद उन्होंने एक प्रोडक्‍शन कंपनी जॉइन की और बंगाली फिल्मों में काम करना शुरू किया. मगर इस दौरान वे थियेटर में भी पूरी तरह से सक्रिय रहे. उन्होंने कई सारे प्लेज में ना सिर्फ एक्टिंग की बल्कि कई सारे नाटकों का लेखन भी किया. वे वामपंथी विचारधारा के समर्थक थे और अपने अंदाज में उन्होंने सरकार पर काफी तंज कसे।

राहुल गांधी का पीएम मोदी को पत्र, कोरोना से लड़ने में लॉकडाउन काफ़ी नहीं, कहा-इस लड़ाई में केंद्र के साथ खड़े हैं

यही वजह रही कि जहां एक तरफ फिल्मों में वे अपनी एक्टिंग के जरिए लोगों का मनोरंजन करते रहे तो वहीं दूसरी तरफ अपनी क्रांतिकारी विचारधारा को नाटकों के जरिए प्रस्तुत करते रहे. उनके कई नाटक विवादों में रहे. उत्पल के लिखे नाटकों से उस समय की राजनीतिक पार्टियां काफी परेशान रहती थीं. कई बार तो इस कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा था.

सरकार को होता था देशद्रोही होने का शक-उत्पल दत्त के नाटक ऐसे विषय पर होते थे कि सरकार को उनकी देशभक्ति पर शक होने लग जाता था. उस दौरान उन्हें अंगार और कल्लोर जैसे नाटक लिखने पर बिना किसी ट्रायल के जेल भेज दिया गया था. फिल्मों की बात करें तो भुवन शोम, गोलमाल, नरम गरम, अंगूर, अगंतुक और शौकीन जैसी फिल्मों में काम किया।

19 अगस्त 1993 को उत्पल दत्त का निधन हो गया था. उन्होंने लगभग 100 से ज्यादा फिल्मों में काम किया था. उत्पल को डायरेक्टर ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्में गोलमाल, नरम गरम और रंग बिरंगी के लिए कॉमेडी जॉनर के फिल्मफेयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था

=>
LIVE TV