नदियों के उफान से यूपी के इन जिलों लगातार बढ़ता जा रहा बाढ़ का खतरा

REPORT- KASHI NATH SHUKLA

मोक्ष दायिनी गंगा अपना विकराल रूप दिखा रही है खतरे के निशान से 6 मीटर दूर गंगा इसे चुने को बेताब है ख़तरा इसलिए भी बड़ा है क्योकि गंगा का ज़ल स्तर लगातार बढ़ रहा है जो गंगा गर्मियों में घाटों को छोड़ चुकी थी नाराज़ सी हो गयी थी वहीँ गंगा अब अपने विकराल रूप से सभी को डरा रहीं है और अब तो महाशमशान भी बाढ़ की चपेट में आ गया है शवदाह किसी तरह घाट की बची हुई सीढियो पर किया जा रहा है।

काशी का ये है महाश्मसान हरिश्चंद्र घाट ..जहा पर अंतिम संस्कार के लिए लोग दूर दूर से आते है क्योकि यहाँ मान्यता ऐसी है की खुद भगवान शिव हर जलने वाली शव के कान में तारक मंत्र देते जिससे की मारने वाले को मुक्ति मिल जाती है।

लेकिन पिछले दो दिनों से गंगा में हो रही जल वृद्धि से शवो को जलाने में काफी परेशानिया हो रही है वजह ये है की घाट पर चारो तरफ पानी आ गया है और इसी कारण अब यहाँ चिता घाट के सीढ़ियों पर जलाई जा रही है..गंगा में जलस्तर बढ़कर 65 .22 मीटर हो गया है। घाट पर शवदाह कराने वालों को भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है बड़ी मुश्किल से वो शवदाह करा पा रहे है।

पति-पत्नी के बीच ‘वो’ ने कराया बीच सड़क पर झगड़ा! जाने क्या है मामला

सबसे ज्यादा परेशानी शव के लेकर आये परिजनों को हो रही है ..क्योकि शव जलाने के लिए जगह की कमी तो हो रही है और साथ में आये यहाँ परिजनों को बैठने का स्थान भी नहीं मिला पा रहा है। लकडिया भी लाने में यहाँ परेशानी हो रही है।

=>
LIVE TV