त्रिजटा स्नान के बाद विदा हो गए सभी कल्पवासी, अगले साल फिर आने का लिया संकल्प

REPORT-SYED RAZA/PRAYAGRAJ

माघ पूर्णिमा स्नान पर्व के बाद तीन दिन तक चलने वाले  त्रिजटा स्नान का समापन हो गया है और अब पूरी तरीके से कल्पवासी संगम की रेती से विदा हो रहे हैं। ये सभी कल्पवासी पौष पूर्णिमा स्नान से पहले संगम की रेती पर आ गए थे और 1 महीने तक कल्पवास करने के बाद अब वह अपने अपने घर लौट रहे हैं ।हालांकि  माघी पूर्णिमा स्नान पर्व पर ही  कई कल्पवासी लौट गए थे लेकिन अधिकतर कल्पवासी  त्रिजटा का स्नान करने के बाद अब लौट रहे हैं।

प्रयागराज

त्रिजटा का स्नान माघी पूर्णिमा के बाद लगातार तीन दिन तक होता है और इन 3 दिनों में कल्पवासी गंगा स्नान करते हैं, सूर्य को अर्घ्य देते है, दान देते है और उसके बाद अपने घर लौटते हैं । कल्पवासी जब लौट रहे होते हैं तो यह बेहद भावुक पल होता है क्योंकि देश के अलग-अलग हिस्सों से कल्पवासी आते हैं और 1 महीने तक यहां कल्पवास करते हैं इस दौरान कई अपरिचित लोगों से परिचय बनता है और जब 1 महीने का कल्पवास पूरा होता है तो सब भावुक हो जाते हैं ।

कल्पवासियों के जाने से संगम की रेती मैं अब वो रौनक दिखाई नहीं दे रही है। जगह- जगह मेले मैं लगे पंडालों को हटाया जा रहा है ।

नवाबों की संपत्ति के बंटवारे में नया विवाद, रामपुर के नवाब एक दूसरे पर लगा रहे है यह आरोप

कल्पवासियों के टेंट को भी निकालने का काम शुरू हो गया है. हालांकि कल्पपवासियों  ने कहा कि साल भर तक वह संगम में आने का इंतजार करते हैं और अब वह इस संकल्प के साथ घर जा रहे हैं कि अगले साल कल्पवास में फिर आएंगे।

दिल्ली से आई एक कल्पवासी महिला का का कहना है कि कल्पवास के दौरान लोगो से एक अलग सा रिश्ता जुड़ जाता है जो  हमेशा के लिए यादगार बन जाता है ।

=>
LIVE TV