राजधानी में आज टैक्सी यूनियनों का धरना प्रदर्शन, स्थानीय लोगों को होगी परेशानी…

दिल्ली। दिल्ली में टैक्सी ड्राइवरों का किराया बढ़ाए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। अपनी मांगों को लेकर समर्थन और पैदल मार्च निकालेंगी। इस धरने में दिल्ली के काफी टैक्सी वाले शामिल होंगे।

टैक्सी यूनियनों

धरने के दौरान चालक गुरुद्वारे दिल्ली सचिवालय तक पैदल मार्च निकालेंगे। इस बीच सड़कों पर आम लोगों को ट्रैफिक जाम की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

दिल्ली टैक्सी टूरिस्ट ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय सम्राट ने बताया कि टैक्सी चालक लंबे समय से दिल्ली की टैक्सियों के किराये बढ़ाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन उनकी मांग पर कोई गौर नहीं किया जा रहा है।

इसके साथ ही ओला-ऊबर जैसी निजी कंपनियों द्वारा कैब चलाने से दिल्ली की काली-पीली टैक्सी और दिल्ली नंबर की सभी टैक्सियों का काम खत्म हो रहा है।

उन्होंने कहा कि किराया बढ़ाने के साथ ही चालकों की मांग है कि टैक्सियों से स्पीड सड़कों पर लगे कैमरों से मॉनिटर नहीं किया जाना चाहिए, टैक्सियों पर लगने वाले एमसीडी टोल टैक्स को समाप्त किया जाए, मीटर टैक्सी स्कीम लागू की जाए।

प्रेरक प्रसंग – सफल वही होता है जो लक्ष्य  को निर्धारण कर उस पर कायम रहता है…

वहीं दिल्ली प्रदेश टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष राजेंद्र सोनी ने कहा कि टैक्सी पॉलिसी 2017 को तुरंत लागू किया जाना चाहिए, मोटर वाहन अधिनियम 2019 को अभी लागू न किया जाए क्योंकि इसमें काफी खामियां हैं।

काली पीली व डीएलवीआरटी व सभी एप बेस्ड टैक्सियों के भाड़े तुरंत बढ़ाए जाएं व सभी के किराये एक समान किए जाएं। बाहरी राज्यों की टैक्सियों को दिल्ली में न चलने दिया जाए।

उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शन में दिल्ली की करीब 14 यूनियनें शामिल होंगी। इस बीच दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार दोनों के खिलाफ चालक प्रदर्शन करेंगे।

=>
LIVE TV