जेईई एडवांस 2019 क्वालिफाइड करने के बाद छोड़ी तो दोबारा जेईई एडवांस में नहीं मिलेगी एंट्री

यदि कोई विद्यार्थी जेईई एडवांस 2019 में क्वालिफाइड करने के आधार पर आईआईटी की काउंसलिंग में सीट अलॉटमेंट के बाद ले (फ्रीज ) लेता है और बाद में कोर्स या आईआईटी पसंद न आने पर छोड़ देता है तो दोबारा जेईई एडवांस परीक्षा में भाग नहीं ले सकेगा। आईआईटी की सीट ब्लॉक करने वाले विद्यार्थियों को आईआईटी में दाखिला दौड़ से बाहर कर दिया जाएगा।

जेईई एडवांस 2019

ऐसा नियम विद्यार्थियों द्वारा आईआईटी की सीट ब्लॉक न करने के चलते लिया गया है, ताकि संबंधित विद्यार्थी द्वारा सीट न लेने पर अन्य को दे दी जाए।   देशभर के सभी आईआईटी, एनआईटी और आईआईआईटी समेत अन्य केंद्रीय शिक्षण संस्थानों में बीटेक और बीई प्रोग्राम में काउंसलिंग की दौड़ शुरू हो गई है।

जोशा प्रबंधन के मुताबिक, देश के सभी 21 आईआईटी, 31 एनआईटी, 25 आईआईआईटी और 28 अन्य केंद्रीय तकनीकी शिक्षण संस्थानों में ज्वाइंट एडमिशन एलोकेशन (जोशा) 2019 के तहत बीटेक और बीई प्रोग्राम में सीट अलॉटमेंट के लिए काउंसलिंग विंडो ओपन हो गई है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार 7  नए संस्थान शामिल हैं। इसमें 2 आईआईआईटी और 5 केंद्र सरकार के तकनीकी संस्थान हैं। इस बार कुल 45,244 सीटों पर दाखिले होंगे। इसके अलावा आईआईटी व एनआईटी में 2059 गर्ल्स सुपर न्यूमेरी सीट हैं।

दबंगों ने घर में घुसकर की युवक की पिटाई, पुलिस ने नहीं दर्ज किया मुकदमा

पहली बार ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के विद्यार्थियों के लिए 2529 अतिरिक्त सीट हैं। इसमें 129 दिव्यांग ईडब्ल्यूएस सीट भी शामिल हैं। आईआईटी में 609 ईडब्ल्यूएस सीट, एनआईटी में 1309, आईआईआईटी में 290 और केंद्र सरकार के तकनीकी शिक्षण संस्थानों में 321 अतिरिक्त सीटों पर ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा।

ज्वाइंट एडमिशन एलोकेशन (जोशा) की वेबसाइट पर काउसंलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन विंडो रविवार को ओपन हो गई। यह रजिस्ट्रेशन विंडो 25 जून शाम पांच बजे तक खुली रहेगी। विद्यार्थियों को काउंसलिंग में रजिस्ट्रेशन के साथ-साथ अपना पसंदीदा आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी समेत अन्य केंद्रीय शिक्षण संस्थानों में बीटेक और बीई प्रोग्राम में दाखिले की काउंसलिंग के लिए एक आवेदन पत्र पर रजिस्ट्रेशन करने का मौका मिल रहा है।

जेईई एडवांस 2019 में क्वालिफाइड विद्यार्थियों को जोशा वेबसाइट पर आईआईटी समेत अन्य मनपसंद शिक्षण संस्थानों में दाखिला सीट के लिए काउसंलिंग में रजिस्ट्रेशन करना होगा। जबकि एनआईटी, आईआईआईटी और अन्य केंद्र सरकार के तकनीकी शिक्षण संस्थानों में दाखिले के लिए जेईई मेन स्कोर 2019 के रैंक के आधार पर सीट अलॉट होगी। यदि काउंसलिंग में नंबर आ जाता है तो फिर 1500 रुपये काउंसलिंग फीस ली जाएगी। यदि सीट नहीं मिलती है तो उसे कोई फीस नहीं देनी होगी।

इस शहर में दुनिया की सबसे बड़ी सिंचाई परियोजना तैयार, 21 जून को होगा उद्घाटन   

सभी कोर्स को रजिस्टर्ड करें

विशेषज्ञों ने विद्यार्थियों को सलाह दी है कि काउंसलिंग में मनपसंद संस्थान के बाद अन्य सभी संस्थानों में भी रजिस्टर्ड करें। इसके अलावा यदि आपको कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग चाहिए तो उसके अलावा अन्य कोर्स को भी चुनें। मान लिजिए आपको जो संस्थान पसंद है, उसकी कटऑफ में आपको सीट नहीं मिलती है तो अन्य संस्थान के नाम के आगे क्लिक किया होगा तो काउंसलिंग के अगले राउंड में सीट मिल सकती है। लेकिन यदि अन्य संस्थान और कोर्स को चुना ही नहीं होगा तो फिर पहले ही राउंड में बाहर हो सकते हैं। इसलिए सभी संस्थान व कोर्स को चुनना जरूरी है।

एनआईटी में 50  फीसदी स्टेट कोटा

देशभर के 31 राज्यों में एनआईटी स्थापित है। इन सभी एनआईटी में 50 फीसदी सीट स्टेट कोटा के लिए आरक्षित रहती हैं।  मतलब जिस राज्य में एनआईटी होगा, उस राज्य के विद्यार्थियों को 50 फीसदी सीट पर दाखिला होता है।

सीटें 
आईआईटी : 13, 583
एनआईटी : 21,142
आईआईआईटी : 4,713
अन्य  : 5, 806
कुल : 45,244

 

=>
LIVE TV