जी-20 शिखर सम्मेलन में भारत के इस फैसले पर चीन बोला- ‘संरक्षणवाद और धौंस जमाना विश्व के लिए बड़ा खतरा’

पाकिस्तान ने नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को आमंत्रित नहीं करने के भारत के फैसले को यह कह कर खास तवज्जो नहीं देने की कोशिश की कि भारत की “अंदरूनी राजनीति” उन्हें अपने पाकिस्तानी समकक्ष को आमंत्रित करने की इजाजत नहीं देती।

ओसाका, 28 जून (एएफपी) चीन ने शुक्रवार को कहा कि संरक्षणवाद और धौंस जमाना विश्व के लिए बड़ा खतरा है।

जी-20 शिखर सम्मेलन से पहले चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के अन्य नेताओं से मुलाकात करने के बाद और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ वार्ता से पहले यह बयान जारी किया गया है।

जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर शुक्रवार सुबह शी ने अपने तीन अफ्रीकी समकक्षों से मुलाकात की।

चीनी विदेश मंत्रालय के अधिकारी दाई बिंग ने पत्रकारों से कहा, ‘‘ बैठक में सभी नेताओं ने एकपक्षवाद, संरक्षणवाद और धौंस जमाने के बढ़ते मामलों पर जोर दिया, जो आर्थिक वैश्वीकरण और वैश्विक व्यवस्था के लिए गंभीर खतरा हैं और विकासशील देशों के बाह्य वातावरण के लिए गंभीर चुनौती हैं।’’

दाई ने कहा कि बैठक में दक्षिण अफ्रिका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा, मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सीसी और सेनेगल के राष्ट्रपति मैके सैल शामिल थे।

चीन ने बैठक में कहा कि बीजिंग आमतौर पर ट्रम्प प्रशासन की आलोचना करता है, जिससे उसके अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ शनिवार को होने वाली बैठक में कड़ा रुख अपनाने का संकेत मिला।

संसद में उठे सवाल पर मोदी सरकार ने दिया जवाब, चीन से कम किया 6 हजार मिलियन डॉलर का आयात !

दोनों नेताओं के बीच होने वाली बैठक पर सबकी निगाह हैं कि क्या वे व्यापार युद्ध पर विराम लगा पाएंगे, जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है।

LIVE TV