जीजा-साली मिलकर कर रहे थे ऐसा काम……

fak-rs_57219b8f8a6f4एजेंसी/  इंदौर. मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर के अन्नपूर्णा थाना क्षेत्र की च्वाइस पैलेस कॉलोनी में नकली नोट छापने के व्यापार का पर्दाफाश हुआ है. यह जाली नोट एक घर में आधुनिक कलर प्रिंटर के माध्यम से छापे जा रहे थे. इन नोटों को 12वीं की स्टूडेंट एक किराना दुकान पर दो बार चला चुकी थी. तीसरी बार जब दुकानदार को शक हुआ तो उसने पुलिस को इस मामले में जानकारी दी.

जब पुलिस ने स्टूडेंट को गिरफ्तार किया तो उसने बताया कि नकली नोट उसके जीजा ही छापते हैं. छात्रा के पास से 100-100 के 14 नकली नोट और घर से एक लाख रुपए बरामद किये गए गए. छात्र को हिरासत में लेकर मुख्य आरोपी को तलाश किया जा रहा है. पुलिस के मुताबिक, किराना दुकानदार से सूचना मिली थी कि एक युवती नकली नोट देकर सामान ले जाती है. इस पर टीआई दिलीप गंगराड़े की टीम ने उक्त दुकान पर नजर रखी. बुधवार दोपहर में जैसे ही युवती 100 का नकली नोट लेकर सामान लेने दुकान पर पहुंची तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

पूछताछ में छात्रा ने जीजा नितिन सागर द्वारा उक्त नोट तैयार करना बताया. इस पर पुलिस ने च्वाइस पैलेस काॅलोनी के मकान नंबर दो में छापा मारा. वहां से कलर प्रिंटर, 100-100 के 14 के नकली नोट और एक लाख रुपए मिले. पुलिस के मुताबिक लड़की का नाम 19 वर्षीय किरण पिता महेश जावर है जो की खिलचीपुर (राजगढ़) की रहने वाली है. वह 12वीं की पढ़ाई के लिए जीजा के घर रह रही है.

=>
LIVE TV