जय श्रीराम का नारा न लगाने पर युवक के साथ बदसलूकी, पीड़ित ने की जल्द गिरफ्तारी की बात

कानपुर के बाबूपुरवा में बुधवार रात तीन युवकों ने मिलकर एक ऑटो चालक को शौचालय में बंधक बनाकर ईंट-पत्थरों से पीट-पीटकर मरणासन्न कर दिया। आरोप है कि हमलावरों ने जय श्रीराम का नारा न लगाने पर पीटा। जानकारी होने पर हजारों लोग विरोध में सड़क पर आकर हंगामा करने लगे। सूचना पर एसएसपी समेत दो दर्जन थानों का फोर्स मौके पर पहुंचा और घायल को अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

जय श्रीराम

घटना के बाद से इलाके में तनाव की स्थिति बनी है। बाबूपुरवा नई बस्ती निवासी आतिब ऑटो चलाता है। उसके  परिजनों ने बताया कि रात करीब नौ बजे आतिब घर आ रहा था। तभी बाकरगंज चौराहे पर खटिकाना मोहल्ला निवासी सुमित, राजेश और शिवा ऑटो में बैठ गए और चारराड चौराहे तक छोड़ने को कहा।

चारराड चौराहा पहुंचने पर पैसे न होने की बात कहकर आतिब को खटिकाना ले गए। आरोप है कि यहां पर पांचों ने मिलकर जबरन उससे जय श्रीराम के नारे लगाने को कहा। विरोध करने पर पास के एक सुलभ शौचालय में ले गए। वहां पर उसको बंधक बनाकर सिर पर ईंट पत्थर से वार कर जख्मी कर दिया। चीखने चिल्लाने की आवाज सुनकर हमलावर भाग निकले।

भीम आर्मी के विधानसभा इकाई के अध्यक्ष सुरेंद्र को गोली से मारने की कोशिश, इंसाफ ना मिलने पर गांव छोड़ने की दी धमकी

जल्द गिरफ्तारी की मांग
हजारों लोगों की भीड़ को देखते हुए एसएसपी अनंत देव खुद परिजनों से बातचीत करने पहुंचे। उन्होंने समझाबुझाकर मामला शांत करवाने की कोशिश की लेकिन गुस्साए लोग कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे। वह नारेबाजी कर हंगामा करने में जुटे रहे। उनका कहना था कि आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की जाए। हालांकि इस पर भी एसएसपी ने उन्हें कार्रवाई का आश्वासन दिया। फिर देर रात तक लोग सड़क पर ही डटे रहे।

एसपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया शुरुआती जांच में पता चला है कि पीड़ित और आरोपी एक साथ बैठकर शराब पी रहे थे। उसी दौरान किसी बात को लेकर विवाद हुआ और फिर मारपीट हुई। जय श्रीराम के नारे लगवाने के विरोध में पीटने की बात गलत है। बाकी आरोपों की जांच की जा रही है।

=>
LIVE TV