चौधरी अजीत सिंह के बिगड़े बोल- मोदी-योगी की तुलना की इस पालतू जानवर से, स्मृति ईरानी को कहा…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों के करीब आने से पहले ही सभी दल अपने आपको जनता के सामने किसी न किसी तरह से लाना चाहते हैं। ऐसे में रालोद मुखिया चौधरी अजीत सिंह ने बीते गुरुवार विवादित बयान देते हुए नई बहस को जन्म दे दिया।

पश्चिमी यूपी के मथुरा के कोसीकलां में एक रैली को संबोधित करते हुए सिंह ने पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ की तुलना बैल और बछड़े से कर डाली। अजीत सिंह यहीं नहीं रुके इसके अलावा उन्होंने बीजेपी सरकार में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की तुलना हट्टी-कट्टी गाय से कर डाली।

एनबीटी की एक खबर के अनुसार, अपने भाषण के दौरान चौधरी अजीत सिंह ने कहा कि आजकल देख रहा हूं कि आप लोग गाय, बैल और बछड़ों को स्कूल कॉलेज में बंद कर रहे हो। कुछ लोग कहते हैं कि ये मोदी-योगी घूम रहे हैं, ये बात सच है क्या? अजीत सिंह ने आगे कहा कि कुछ लोग तो कहते हैं कि हट्टी-कट्टी गाय आ गई, देखों स्मृति ईरानी भी घूम रही हैं।

पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए अजीत सिंह ने कहा कि 70 साल में किसी प्रधानमंत्री ने काम नहीं किया, केवल मोदी ने ही काम किया है। आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर रालोद मुखिया बोले कि आपको मौका मिलने वाला है, प्रजातंत्र में यही खूबी है, यदि प्रधानमंत्री गलत मिल जाए तो 5 साल में उसकी छुट्टी कर देने का अधिकार भी आपके पास है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा और रालोद के बीच गठबंधन की बातें कही जा रही हैं। ऐसी अपुष्ट खबरें आयी हैं कि तीनों पार्टियों के बीच सीटों के कथित बंटवारें के तहत सपा-बसपा 37-37 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी, वहीं रालोद को 2 सीटें दी गई हैं।

ये भी खबर आयी थी कि रालोद ने गठबंधन के तहत खुद के लिए 5 लोकसभा सीटों की मांग की है। अब इस मुद्दे पर जब चौधरी अजीत सिंह से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी सीटों को लेकर कोई बात नहीं हुई है, केवल मुलाकात हुई है।

पीएम को क्या संदेश देना चाहते हैं राज ठाकरे, खास पारिवारिक कार्यक्रम में राहुल को बुलाया मोदी को नहीं

आरएलडी मुखिया अजीत सिंह के साथ इस रैली में कैराना से पार्टी की सांसद तबस्सुम हसन, राजस्थान सरकार में मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग आदि नेता भी मौजूद थे। इस दौरान रालोद मुखिया ने केन्द्र की एनडीए सरकार पर जमकर हमला बोला।

वहीं इस बीच ऐसी खबरें भी आ रही हैं कि आगामी 12 जनवरी को बसपी मुखिया मायावती और समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव अपने गठबंधन का आधिकारिक रुप से ऐलान कर सकते हैं। सूबे में सपा-बसपा के गठबंधन से राजनीतिक गलियारों में हलचल मची हुई है।

=>
LIVE TV