खतरनाक हो चुके हाईवे देख खफा हुए केंद्रीय मंत्री ने एनएचएआइ के अफसरों से मांगा ब्यौरा….

बरेली को लखनऊ से जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग-24 बारिश के बाद पूरी तरह से दरक चुका है। जगह-जगह गहरे गड्ढों की वजह से आए दिन हादसे हो रहे हैं। खतरनाक हो चुके हाईवे पर केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने गुरुवार को खफा होकर नेशनल हाईवे अथॉरिटी आफ इंडिया के परियोजना निदेशक को दिल्ली से फोन करके पूछा कि आठ महीने पहले 700 करोड़ का बजट मिलने के बाद भी हाईवे की निर्माण क्यों नहीं शुरू हो सके। परियोजना निदेशक ने उन्हें बरेली से शाहजहांपुर के बीच करीब 20 से ज्यादा टीमों के मरम्मत के काम करने की जानकारी दी।

उनका कहना था कि पहले लॉकडाउन हुआ, अनलॉक होने पर भी मजदूर मिलने की मुश्किल थी। हालांकि प्रशासन से अनुमति समय रहते मिल चुकी थी। लेकिन काम नहीं शुरू करवाए जा सके। 15 मई तक इन दिक्कतों की वजह से हाईवे पर छुटपुट काम हुए। इसके बाद बारिश का सीजन होने से बड़े निर्माण नहीं करवाए जा सकते हैं।

अधिकारी के इस जवाब से केंद्रीय मंत्री संतुष्ट नहीं हुए। उन्होंने नाराजगी के भाव से कहा कि आपको जल्द निर्माण शुरू करवाने होंगे। लोगों को दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने एनएचएआइ के अधिकारी से एनएच-24 पर हुए अब तक के निर्माण का ब्यौरा भी तलब किया।

बरेली से शाहजहांपुर के बीच यहां हैं दुर्दशा  

फतेहगंज पूर्वी में बहगुल नदी के पुल धंसा

फरीदपुर में हाईवे को पुल से जोड़ने वाली दोनों तरफ की सड़क टूटी

बीसलपुर रोड से नगरिया विक्रम पर सड़क का बड़ा हिस्सा टूटा हुआ

फरीदपुर में गांव जेड़ और रिलायंस पेट्रोलपंप के बीच सड़क

मीरानपुर कटरा के पास भी हाईवे खस्ताहाल है।

गौसगंज और रजऊ से फरीदपुर तक गहरे गड्ढे

एनएच-24 की बारिश में खस्ताहालत पर एचएनएआइ के अधिकारियों से लेटलतीफी के कारण पूछे। साथ ही कार्यदायी संस्था के कामों का ब्यौरा भी मांगा है। जब टेंडर हो गया, बजट जारी हो गया तो फिर क्या दिक्कत रही जो काम नहीं शुरू हुए।

=>
LIVE TV