कांग्रेस विधायकों ने विधानसभा में फेंके लॉलीपॉप, सभी निलंबित

indian-national-congress_landscape_1459031706एजेन्सी/गुजरात विधानसभा अध्यक्ष गणपत वासवा ने बुधवार को कांग्रेस के 55 विधायकों को निलंबित कर दिया। विधानसभा में कांग्रेस के 60 विधायक हैं। विधायकों पर आरोप था कि उन्होंने पाटीदार आंदोलन के समर्थन में नारे लगाए और मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल समेत सत्ता पक्ष की कुर्सियों की ओर लॉलीपॉप फेंका। गुजरात विधानसभा का बजट सत्र गुरुवार को समाप्त हो रहा है। 

बुधवार को प्रश्नकाल शुरु होने के तुरंत बाद ही कांग्रेस विधायक राघवजी पटेल ने प्राइवेट मेंबर ‌बिल पर बहस की मांग की, जिसमें आर्थिक रूप से अक्षम समुदायों के लिए 20 फीसदी आरक्षण देने की बात कही गई ‌थी। हालांकि विधानसभा अध्‍यक्ष ने उनकी मांग को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस के सदस्यों को एक दिन पहले ही बता चुके हैं कि प्रश्नकाल के दौरान बिल पर बहस नहीं की जा सकेगी। 

सदन में राघवजी के समर्थन में सभी कांग्रेस विधायक भी आ गए। कांग्रेस विधायक ने सफेद टोपी भी लगा रखी थी, जिस पर ‘जय सरदार, जय पाटीदार’ लिखा हुआ था। उन्होंने पोस्टर भी लहराए, जिस पर गुजराती में लिखा था, ‘हार्दिक ने जेल, अनार ने महल’।इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, विधानसभा अध्‍यक्ष ने हालात को नियंत्रित करने का प्रयास किया हालांकि कांग्रेस के विधायकों ने उनकी बात नहीं सुनी और सत्ता पक्ष की कुर्सियों को ओर लॉलीपॉप फेंकना शुरु कर दिया। ये लॉलीपॉप मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल और मंत्रियों की कुर्सियों के पास गिरे। जिसके बाद गुजरात सरकार में मंत्री नीतिन पटेल ने सदन में मौजूद कांग्रेस के सभी 55 विधायकों को निलंबित करने का प्रस्ताव दिया। विधानसभा अध्यक्ष गणपत वसवा ने प्रस्ताव मान लिया और सभी कांग्रेस विधायकों को निलंबित कर दिया। 

निलंबन के बाद राघवजी पटेल ने मीडियाकर्मियों से बातचीत में बताया कि गुरुवार को विधानसभा के बजट सत्र का अंतिम दिन था, इसलिए हमने बुधवार को ही बिल पेश करने की मांग की ‌थी, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने हमारी बात नहीं सुनी और हमें सत्र के अंत तक निलंबित कर दिया। 

=>
LIVE TV